Thursday, August 13, 2009

मां के हाथों की रोटियों की महक ...

लंबे समय के बाद एक छोटी बह' की ग़ज़ल कहने की कोशिश की है जिसे आर्शीवाद परम आदरणीय गूरू देव ने दिया है ... आप सभी के सामने इसे रख रहा हूँ प्यार और आर्शीवाद के लिए...


बह' .... २१२२ १२१२ ११२


मुस्कुराकर वो जब बुलाए मुझे ,
हादसे पास नज़र आए मुझे ॥


मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
कोई कैसे भला झुकाए मुझे

लोग पत्थर मुझे समझते हैं ,
और तुम भी समझ ना पाए मुझे


मां के हाथों की रोटियों की महक ,
शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥


उम्र भर की थकन मिटे पल में ,
हंस के वो जब गले लगाए मुझे

तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥


खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे


प्रकाश"अर्श"
१३/०८/२००९

57 comments:

  1. आईला......
    पहला कमेन्ट..मेरा...

    ReplyDelete
  2. मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥

    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    wah sone ki mala men do heere zyada pasand aye,
    tumhari aunty ko bhi sunai, wo senty ho gain, bhai unka beta bhi to bahar hai na.

    ReplyDelete
  3. शुक्र है...पहला मेरा ही निकला...
    अर्श भाई...
    मतला बड़ा खतरनाक....
    वेरी डेंजरस
    इसके बाद डगमगाते ईमान को बचाते हुए..
    पत्थर के करीब से दिल लगाकर गुजरते हुए..
    मान के हाथ से बनी रोटी की खुशबू को सांस भर के महसूस करते हुए..

    गले लग के थकान मिटाने के बाद...

    तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥
    इस शे'र पे आके ठोकर सी लगती है...और

    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    ये आखिरी शे'र समझिये के ठिठक कर खडा रह जाने को मजबूर करता है..
    अगर ये सबसे पहले होता तो ये गजल किश्तों में पढ़ी जाती हमसे ..
    लाजवाब है

    ReplyDelete
  4. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

    ReplyDelete
  5. बहुत लाजवाब पेशकश!

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया है अर्श.

    ReplyDelete
  7. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

    लाजवाब रचना।

    ReplyDelete
  8. ेअब मैं सोच रही हूँ कि क्या कहूँ अब तो तुम मेरे उस्ताद भी हो और ये भी सोच रही हूँ कि किस किस शेर की बात करूँमां के हाथों ॥
    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    उम्र भर की थकन मिटे पल में ,
    हंस के वो जब गले लगाए मुझे ॥
    माँ को कभी नहीं भूलते इसी लिये तो बेटा बनाया है लाजवाब शे र
    मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥
    पूरी राजपूती शान दिख रही है बहुत बडिया क्या कहने
    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥
    अब इस पर मनु जी ने कह दिया है तुम्हारे इश्क पर कुछ नहीं कहूँगी मगर इस शे र पर दाद दिये बिना रहा भी नहीं जाता लाजवाब अद्भुत सुन्दर बडिया । बहुत सुन्दर गज़ल है बधाऔर आशीर्वाद

    ReplyDelete
  9. मुस्कराकर +हादसे |ईमान +_झुकना |पत्थर नहीं मैं मॉम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा |माँ के हाथ की रोटियों की तो बात ही अलग है |हंस कर जब वो गले लगाये सारी थहन मिटे और गले लगा कर एक दो घंटे छोडे ही नहीं तो भी थकन होने लगती है |तेज़ रफ्तार में चलने पर ठोकर लगती ही है |सरे शेर ला जवाब

    ReplyDelete
  10. माँ के हाथों में जादू जो होता है...सच है,
    उम्र भर की थकन मिटे पल में ,
    हंस के वो जब गले लगाए मुझे ॥

    ReplyDelete
  11. मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥
    har sher lajawab,sunder gazal.

    ReplyDelete
  12. ख़ुश नसीब है वो माँ ,जिसे उसकी औलाद इस तरह याद करे ! बधाई हो उन्हें ...साथ आपके ..!

    ReplyDelete
  13. 'मां के हाथों की…'
    'तेज़ रफ़्तार थी…'
    बहुत ख़ूब!

    ReplyDelete
  14. तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥ bahut acchey

    ReplyDelete
  15. अर्श भाई, क्या कमाल लिखते हो आप, जैसे जैसे आपको पढता जाता हूँ दीवानगी बढ़ती जाती है

    लोग पत्थर मुझे समझते हैं ,
    और तुम भी समझ ना पाए मुझे ॥

    मतला और दूसरा शेर तो मुझे औसत लगा मगर तीसरा शेर पढ़ा तो बहुत जोर का झटका सा लगा और उठ कर बैठ गया और इस शेर को ३ बार पढ़ा वाह क्या बात है,....

    बाकी ये शेर भी खूब पसंद आये

    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥


    तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥


    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥


    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  16. bahut hi khubsurat gazal hai yeh to... JAi Guru dev...!

    ReplyDelete
  17. अच्छे शेर निकाले अर्श...१ माँ वाला शेर सबकी तरह मुझे भी अव्वल लगा। तेज़ रफ्तार और लकीर वाला भी उम्दा...! मानव स्वाभाव ही है कि वो निषिद्ध चीजों की तरफ अधिक बढ़ता है। मगर हाँ ऐसा नही लगता तुम्हे कि तुम्हारा पहले और आखिरी शेर एक दूसरे का विरोध कर रहे हैं। हा हा

    मगर ये तो यूँ ही कह रही हूँ.....! यही तो खूबी होती है शायर की। कि वो जो भी कहे अंदाज़ अलग हो उसका

    बढ़िया...!

    ReplyDelete
  18. sahi kaha manu ji....

    ...qutil matla hai !!

    ...der aaiyed durust aaiyed.

    मुस्कुराकर वो जब बुलाए मुझे ,
    हादसे पास नज़र आए मुझे ॥

    abhi to isi pe comment karoonga...

    kyunki pata hai ab aapne likh diya to ek mahiney ki chutti...

    to baar baar aake padhne ka bahana aur kuch na kuch comment dene ka bahana bana rahe.....


    ...khuda hafiz bhaizaan.

    ReplyDelete
  19. लोग पत्थर मुझे समझते हैं ,
    और तुम भी समझ ना पाए मुझे ॥
    बहुत खूब ..

    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    एक एक शेर खुबसूरत है और बहुत सच्चा है ..बेहतरीन लगी यह गजल आपकी लिखी हुई ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  20. ख़ूब कहते हो ग़ज़लें 'अर्श' मियां,
    क्या कहूं ये समझ न आए मुझे.

    ReplyDelete
  21. ज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥
    bahut khoob kaha aapne arsh !!waah

    ReplyDelete
  22. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय श्री कृष्ण!!
    ----
    INDIAN DEITIES

    ReplyDelete
  23. लोग पत्थर मुझे समझते हैं
    और तुम भी न समझ पाए मुझे
    बहुत सुन्दर....
    सच्चाई का सामना कराती ग़ज़ल .....

    ReplyDelete
  24. क्या कहने ....
    भावपूर्ण और सच्चे शेर कहे हैं आपने अर्श भाई
    इसी तरह लिखा करें ..
    और गाते तो और बढिया लगता --
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  25. मनु जी ने मेरे शब्द चुरा लिये...तो मैंने उनकी पूरी की पूरी टिप्पणी:-

    "मतला बड़ा खतरनाक....
    वेरी डेंजरस
    इसके बाद डगमगाते ईमान को बचाते हुए..
    पत्थर के करीब से दिल लगाकर गुजरते हुए..
    मान के हाथ से बनी रोटी की खुशबू को सांस भर के महसूस करते हुए..

    गले लग के थकान मिटाने के बाद...

    तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥
    इस शे'र पे आके ठोकर सी लगती है...और

    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    ये आखिरी शे'र समझिये के ठिठक कर खडा रह जाने को मजबूर करता है..
    अगर ये सबसे पहले होता तो ये गजल किश्तों में पढ़ी जाती हमसे ..
    लाजवाब है"

    इन शब्दों को मेरा माना जाये....

    एक बेहतरीन ग़ज़ल प्रकाश..."उस्तादों" के "उस्त" तक पहुँचाती हुई तुम्हें, यकीनन!

    आखीरी शेर पे मेरा सब लिखा कुर्बान!

    ReplyDelete
  26. मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥
    सोधी खुश्बू माँ के हाथो की रोटियाँ लिये हुए आ गयी यादो मे आपकी पोस्ट पढकर
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  27. अर्श मियां! क्या शेर निकाला है आपने!! मां वाली सबसे जियादह पसंद आई। बधाई इसलिये भी क्योंकि छोटी बहर में लिखना बहुत मुश्किल होता है।

    ReplyDelete
  28. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    ReplyDelete
  29. मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥


    AB KAREIN DOOSRE SHER KI BAAT...

    ...YE KEWAL TUMAHARI GHAZAL KA EK SHER NAHI BALKI JITNA TUMEHIN JAANA HAI, TUMAHARE JIVAN KA SAAR BHI HAI...

    ...BADIYA !!

    WAPIS AATA HOON...

    ReplyDelete
  30. ma to ma hoti hai dada
    chahe roti ki mahak
    ya dat dapat

    ReplyDelete
  31. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    ReplyDelete
  32. guru dev के aashirvaad से सजी लाजवाब ग़ज़ल है...........

    लोग पत्थर मुझे समझते हैं ,
    और तुम भी समझ ना पाए मुझे
    aksar ऐसे ही होता है इस दुनिया में............ आज का प्यार ऐसा ही है........

    मां के हाथों की रोटियों की महक
    शहर से गांव खींच लाए मुझे

    इस शेर में दनिया के सब शेर न्योछावर हैं अर्श जी........... कितनी मार्मिक अभिव्यक्ति है........ माँ का प्यार सच मच ऐसा ही होता है

    ReplyDelete
  33. 'मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥
    उम्र भर की थकन मिटे पल में ,
    हंस के वो जब गले लगाए मुझे ॥'
    - सुन्दर.

    ReplyDelete
  34. मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥

    kya baat hai


    लोग पत्थर मुझे समझते हैं ,
    और तुम भी समझ ना पाए मुझे ॥


    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    aha khoobsurat sher


    उम्र भर की थकन मिटे पल में ,
    हंस के वो जब गले लगाए मुझे ॥

    wah ji

    तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥

    hmm bahut gahri baat bahut sach


    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    bahut hi gahra maqta

    Arsh ji ek shaandaar gazal par meri badhayi

    ReplyDelete
  35. अर्श बहुत खूबसूरत लगा रहा पन्ना, कितने सारे बदलाव किये है ? मजा आ गया.
    ग़ज़ल के सब शेर उम्दा हैं, हों भी क्यों ना, चित्र में भी गुरु जी साथ खड़े दीख रहे हैं. मुझे जो शेर पसंद आया वो है
    "तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥

    ReplyDelete
  36. मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    इस एक शेर ने सब कुछ कह दिया अब मेरे कहने को और बचा भी क्या है...बेहतरीन ग़ज़ल...मेरी बधाई स्वीकार करें...
    नीरज

    ReplyDelete
  37. वाह वाह वाह !!!! अर्श जी वाह !!

    मन में गहरे उतर गयी आपकी यह ग़ज़ल....जैसे भाव वैसी ही रवानगी....लाजवाब लिखी है आपने...

    ReplyDelete
  38. ab itne aalim-faazil log itna kuchh
    keh chuke haiN,,maiN bhalaa aur kayaa kahooN,,
    un sb ki taa`eed kartaa hooN . . .

    मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥

    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    तेज रफ़्तार थी बहुत मेरी ,
    दर्द ठोकर का ये बताए मुझे ॥

    हुज़ूर....
    इतनी प्यारी और उम्दा ग़ज़ल कही है आपने
    हर शेर पर मुहं से बे-साख्ता वाह निकलती है
    एक अच्छी ग़ज़ल में जितनी मुमकिन खूबियाँ हो
    सकती हैं वो तमाम इस ग़ज़ल में मौजूद हैं
    संजीदगी का लहजा आपकी मेहनत की तस्दीक करता है ...मुबारकबाद

    पुख्तगी की मिसाल क़ाइम है
    शेर इक-इक यकीं दिलाए मुझे
    है सुकूँ-बख्श बानगी सारी
    'अर्श'की ये ग़ज़ल लुभाए मुझे

    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  39. क्या बात है अर्श साहब.. बहुत खूब ग़ज़ल कही.. :)

    ReplyDelete
  40. "मेरा ईमान डगमगाता नहीं,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे|
    लोग पत्थर मुझे समझते हैं,
    और तुम भी समझ ना पाए मुझे|"
    इन पंक्तियों का जवाब नहीं...बहुत उम्दा शेर...
    रचना बहुत अच्छी लगी....बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  41. बेहतरीन ग़ज़ल है.
    मेरा ईमान डगमगाता नहीं ,
    कोई कैसे भला झुकाए मुझे ॥
    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥
    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥
    छोटी बहर में लिखना भी एक कला है जो इस ग़ज़ल
    में उभर कर आई है.
    बधाई.

    ReplyDelete
  42. बहुत ख़ूब अर्श भाई शेर बहुत व्यापकता लिए हुए हैं इस गुलदस्ते में। माँ के लिए कहे गए शेर सचमुच सुन्दर कहे हैं आपने।

    ReplyDelete
  43. छोटी बहर में तो आज तक सर्वत जी की गजलें ही पढता रहा ,आज आपकी पढने को मिल गयी ,...पसंद आयी ...बधाई

    ReplyDelete
  44. EK ACHCHHEE GAZAL KE LIYE MEREE BADHAAEE AUR
    SHUBHKAMNA SWEEKAR KIJYE.ISEE TARH GAZAL KAHTE
    RAHEN.

    ReplyDelete
  45. kafi dino baad aai aapke blog par..... sabne itna kuch kaha .....ham kuch bole ya khamosh rahe ? khamoshi acchi hoti hai isliye chup.....likhte rahiye :-)

    ReplyDelete
  46. मुस्कुराकर वो जब बुलाए मुझे ,
    हादसे पास नज़र आए मुझे ॥

    हादसे....??

    सही कहा जी आपने इस मुस्कराहट से कई बड़े बड़े हादसे हो जाते है ....लड़कियां उम्र भर के लिए गले पड़ जातीं हैं .....!

    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    चलो जी कामयाब रहे आपका इश्क ...बहुत बढिया .....!!

    ReplyDelete
  47. मैंने कहा अरस जी.....आप इए किया कर रिये हो जी.....अजी अरस जी आपको पढ़कर ऐसा लगता है कि मेरे हरफ तडपाये हैं मुझे.....मेरी ग़ज़ल को बनाने के लिए बुलाए है तुझे......!!

    ReplyDelete
  48. मैंने कहा अरस जी.....आप इए किया कर रिये हो जी.....अजी अरस जी आपको पढ़कर ऐसा लगता है कि मेरे हरफ तडपाये हैं मुझे.....मेरी ग़ज़ल को बनाने के लिए बुलाए है तुझे......!!

    ReplyDelete
  49. ..पेशे की कुछ जरूरी ओर कुछ गैर जरूरी मसृफियत में फंसा था .कुछ मूड नहीं हुआ कम्पूटर में झाँकने का ....इसलिए देर लगी आपके दर पे आने में .....पर ये दो शेर खूब है..

    मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥


    खींच दी है लकीर तुमने जहां ,
    इश्क मेरा वहीं बुलाए मुझे ॥

    ReplyDelete
  50. मां के हाथों की रोटियों की महक ,
    शहर से गांव खींच लाए मुझे ॥

    Yun hi likhte rahiye.

    ReplyDelete
  51. नमस्कार अर्श जी,
    वाह-वाह हर शेर अपनी मौजदगी का एहसास इतनी खूबसूरती से करा रहा है जिसके कुछ कहने नहीं.
    कुछ शेर जैसे "मेरा ईमान.........", "माँ के हाथों.........", ...ओफ ओह्ह किस किस शेर के बारे में कहूं कोई कमतर नहीं.
    मज़ा आ गया, मेरा दिन कुबूल हो गया.

    ReplyDelete
  52. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति बेहतरीन रचना .

    ReplyDelete
  53. तेरी नज्मों का दीवाना तेरा दर्द बाँट नहीं पाता
    क्यों तेरी आँखों से गम का साया नहीं जाता

    ReplyDelete
  54. बढ़िया ग़ज़ल कही है आपने.... अर्श जी, बधाई...

    ReplyDelete
  55. My brother recommended I might like this web site.
    He was totally right. This post actually made my day.
    You can not imagine just how much time I had spent for this information!
    Thanks!

    Feel free to surf to my web page; http://www.erovilla.com

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...