Monday, August 24, 2009

तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं..

बजाय इसके मैं कुछ कहूँ...हद ये है के कुछ कह नहीं सकता ...एक छोटी सी रचना है मन में बहुत उधेड़बुन के खिलाफत के बाद आप सभी के पास रख रहा हूँ जो शायद पसंद ना भी आए ... मगर इससे पहले एक शे' कहूँगा जो श्रधेय मुफलिस जी के लिए बरबस ही जबान पे आगया था .... और खास बात ये है के उनको भी यह खूब भाया


तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं ...



एक छोटी सी रचना को शायद पेश नही करना चाहता था मगर क्या करूँ कर दिया....हो सकता है आप सभी के साथ भी कभी कभी ऐसा होता हो... क्यूँ की मैं भी तो इंसान ही हूँ ना...


कभी कभी ये आँखें
ख़ुद-बा-ख़ुद
डबडबा जाती हैं...
जब पूछता हूँ मैं
आंसू से
वो कहते हैं, बेबाकी से
तुम्हारे
गर हम होते
तो
कभी नहीं बहते
बस फ़िर मैं उन्हें
एक टक देखता हूँ
और
बहने देता हूँ



प्रकाश'अर्श'
२४/०८/२००९

49 comments:

  1. सही कहा अपने ऐसे कभी छोड़ते नहीं लेकिन ...... आसूं होते तो अपने ही है

    ReplyDelete
  2. तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
    मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं

    बहुत सुन्दर रचना भाई तबियत मस्त हो गई . बधाई .

    ReplyDelete
  3. बहुत खुब आपकी ये रचना सिधे दिल तक उतर गयी।

    ReplyDelete
  4. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नही बहते...badhe jhuthe hai aansu...hmare nahi hai to khatam bhi to nahi hote....kahi chupke ankho me baithe rahte hai....behad khoobsurat pankatiya...ahsaas hai apke...ahsaas kisi ko psand aane ke liye nahi hote....apke apne liye hote hai....esiliye to hum rote hai...

    ReplyDelete
  5. हाय!! कि ये आँसू भी मेरे अपने न हुए!!


    क्या गहरी बात कह गये अर्श भाई!!

    ReplyDelete
  6. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नही बहते

    क्या बात है ....!!

    अर्श जी आज तो बहुत छोटी महसूस कर रही हूँ आपके सामने .....!!

    ReplyDelete
  7. Behtareen likhate hain aap..isse aage kucch kahna,meree qabiliyat nahee.

    ReplyDelete
  8. aur aapki yeh rachna bahut naazuk hai...
    ---
    if have time, please join us
    http://www.charchaa.org
    http://vijnaan.charchaa.org

    thanks

    ReplyDelete
  9. aansoo ka hai mol bada
    aansoo yun mat bahne do
    muskaanon men badal ke inko
    aankhon men hi rahne do.

    sunder rachna.

    ReplyDelete
  10. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नही बहते


    nishabd !!!

    arsh bhai !!nishabd !!!
    accha kiya ki uhapoh ke baavzood apne post kar di nahi to hum mehroom reh jaate huzoor...
    ...is ehsaas se jo aansu ban ke baitha tha aapki aankho main.

    ...accha hua tumne use behne diya...

    ReplyDelete
  11. तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
    मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं ...waah

    ReplyDelete
  12. क्या बात है प्रकाश मियां, ये तो अनूठा रूप ले आये अबके!

    पहले तो उस शेर पे खूब सारी दाद कबूल करो....और ये छोटी-सी कविता जिसे तुम इतना झिझकते हुये सुना रहे हो, दिल को छू गयी है।

    ReplyDelete
  13. अर्श जी ऐसी भावुक रचना पसंद क्यूँ नहीं आएगी...आपने ऐसा सोचा ही क्यूँ...बहुत अच्छा लिखा है आपने...बहुत ही अच्छा...नकारात्मक मत सोचिये...कहिये ये मेरी रचना आपको जरूर पसंद आएगी...:))
    नीरज

    ReplyDelete
  14. khubsurat sher aur kavita bhi achchee hai.
    badhaayee.

    ReplyDelete
  15. इतनी खूबसूरत उधेड़बुन बेहद खूबसूरत रचना लगी आपकी यह अर्श जी . आंसू अपने होते तो यूँ बह क्यों जाते ..:)

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब भाई...! बहुत खूब ..दिल खुश कर दिया तुम ने....! मन से लिखी हर चीज ऐसी ही होती है। तुम भले समझो कि ये पता नही कैसा होगा लेकिन ये मुझे उत्तम लगा...! तुम्हारी गज़लों से ये कहीं कमतर नही...!

    अब जब भी ऐसा कुछ लिखना...! बेझिझक लगाना...!

    ReplyDelete
  17. phir aaya aapki 'ring tone' wali ghudki yaad karke...

    तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
    मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं ...


    tom tumahara caller tune wala shikwa bhi itna accha laga ki ab to cha ke bhi nahi badloonga...
    ...chahe tumhein pasand ho ya na ho...

    hahahaha

    ReplyDelete
  18. वो कहते हैं, बेबाकी से
    तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नहीं बहते
    बस फ़िर मैं उन्हें
    एक टक देखता हूँ
    और
    बहने देता हूँ ॥

    वाह ! वाह !!
    एक खूबसूरत . सीधी मन में उतर जाने वाली
    काव्य रचना ......
    लफ्ज़-लफ्ज़ अपनी दास्ताँ खुद कह रहा है
    आपकी परवाज़ जाने कया-कया रंग लाएगी अभी ...
    माँ सरस्वती आपको अपार आर्शीवाद प्रदान करें
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  19. अर्श भाई अक्सर ऐसा होता है किसी वास्तु विशेष या व्यक्ति को हम अपना मान कर चलते है और उसके मन में वो अपनापन नहीं होता

    बहुत सुन्दर अभिवयक्ति, हार्दिक बधाई

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  20. क्या खूब कहा
    शेर और नज्म
    दोनों कमाल

    ReplyDelete
  21. शेर तो खूब बना है और ये कविता पढ़ने के बाद तो यही कहूंगा कि जो -जो आपको पोस्ट करने का मन न हो उसे जरूर करें, हमें तो बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  22. क्या वाकई आंसू अपने नहीं होते ?? और अगर हाँ, तो बह जाने के बाद भी एक चुभन क्यूँ छोड़ जाते हैं ?

    ReplyDelete
  23. मुफलिस जी का शेर तो बेमिसाल है ही.आपके जज्बात भी गोया ...पक्के इंसानी है....यूँ भी कहा जाता है .शायर हो..जरूर आँखों को मसरूफ रखते होगे ...

    ReplyDelete
  24. ye aansoo teree aankho mai kisee aur kee amaanat hai
    kee ke neh kee aur chaah kee jamaanat hain

    ReplyDelete
  25. seedhe dil mein ja kar ik baan ki tarah utar gai aapki ye kavita

    ReplyDelete
  26. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नही बहते.
    बहुत कुछ कह दिया है सब ने। इन आँसूओं की दास्तां भी अजीब है मगर ये बताओ कि तुम अभी से आँसूऔ की बात क्यों करने लगे हो ? वैसे लगता है कभी चुपके चुपके इन पर मास्टरी कर ली है बहुत गहरी और दिल को छू लेने वाली अभिव्यक्ति है और क्या कह सकती हूं------?
    तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
    मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं
    वाह लाजवाब शे-ा-र है बात बात मे एक उमदा शे-ा-र कहना तुम्हारी खासीयत है आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  27. namaskaar अर्श जी,
    अच्छा लिखा है.......

    ReplyDelete
  28. Arsh ji
    aansun zaruri hai muskarane ke liye kyuki agar ye nahi hounge tohamari msukaan utni taazi nahi hogi

    aapki nazm pasand aayi

    ReplyDelete
  29. ये ब्बात है! वाह वाह इसे ही तो कहते हैं अर्श। बहुत ख़ूब अर्श भाई। आँसू का असली दर्जा यही है यही है।

    ReplyDelete
  30. ये ब्बात है! वाह वाह इसे ही तो कहते हैं अर्श। बहुत ख़ूब अर्श भाई। आँसू का असली दर्जा यही है यही है।

    ReplyDelete
  31. बस..
    फिर उन्हें एक टक देखता हूँ..
    और बहने देता हूँ....

    पढ़ते ही मन को छु गयी ये पंक्ति..
    और शे'र भी कमाल.............!!!!!

    तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं....
    इतना पढ़ना ही मजा दे रहा है..
    :)

    ReplyDelete
  32. सुंदर... भावपूर्ण रचना.. वाह.

    ReplyDelete
  33. शेर बहुत खूब कहा है ....पर आपकी इंसानियत के साथ हम भी बह गए

    ReplyDelete
  34. bahut baariki se rach diya gayaa sundar bhaav he/ aapke bhaavo me bahne kaa mazaa bhi kuchh alag hota he/

    ReplyDelete
  35. ये मुफलिस भी बड़े दिलफरेब होंगे जिनके लिए इतना बेहतरीन शेर दिल से निकला है , बधाई

    ReplyDelete
  36. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नही बहते

    bahut khub kaha hai ...

    ReplyDelete
  37. PRAKAASH JI .......... ABHI KUCH DIN PAHLE HI AAPSE MULAAKAAT AUR AAJ AAPKI GAHRI, BHAAV BHARI, CHAND MUKT RACHNA ........ BAAR BAR AAPKA DHEER GAMBHEER CHEHRA NAZRON KE SAAMNE AA RHA HAI ...... AAPNE BAHOOT HI NAAZUKI SE JIYA HAI SHABDON KO .... AAGE BHI ISI TARAH LIKHTE RAHENGE AISI UMEED HAI .... BEHAD KHOOBSOORAT HAI ...

    ReplyDelete
  38. गहरी बात कम शब्दो मे

    ReplyDelete
  39. अर्श जी,कम शब्दो मे गहरी बात,सुन्दर रचना के लिये बधाई

    ReplyDelete
  40. तुम्हारे
    गर हम होते
    तो
    कभी नहीं बहते

    हरकीरत जी ने कहा वो आपके सामने बहुत छोटी महसूस कर रही हैं....
    अब हम तो ये भी नहीं कह पायेंगे......

    ReplyDelete
  41. "कभी कभी ये आँखें
    ख़ुद-बा-ख़ुद
    डबडबा जाती हैं"
    आप की बात सही है....भावों की सुन्दर प्रस्तुति...
    बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  42. प्रकाश जी "अर्श",

    बात छोटी सी होने का बावजूद बड़ी गहरी है, दिल को छूती हुई।

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    आदरणीय मुफ्लिस साहब के लिये कही हुई बात के लिये क्या कहूं कोई शब्द नही है, बिल्कुल किसी नवाजिश की तरह ही मिलते हैं शिकवे।

    ReplyDelete
  43. arsha bhai ,

    mujhe to is baat ka dukh hai ki , meri nazar kaise nahi padhi is nazm par...

    waah kya kahun

    तेरे शिकवे बहुत नाजुक हैं ,इन्हे महफूज़ रखता हूँ...
    मुद्दतों बाद ये मुझको बड़ी मुश्किल से मिलते हैं ..

    waah waah
    bhai meri bhi aankhe nam ho gayi hai ..

    ReplyDelete
  44. KAHAAN HO PRAKASH BHAI ........ LAMBA SAMAY HO GAYA AAPKI GAZAL PADHE ........ BLOG KO ROSHAN KAREN KOI TAAZA GAZAL SE ........

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...