Saturday, October 17, 2009

उंगलियाँ इसलिए खुबसूरत हुई ...


सबसे पहले तो आप सभी को दिवाली की समस्त शुभकामनाएं


गूरू जी के महफ़िल में तरही मुशायरा का आयोजन पुरे शीर्ष पर चल रहा है और खूब सारे लोगों ने जम के गज़लें कही हैं ... तरही का मिसरा है
दीप जलते रहें झिलमिलाते रहें

इस तरही में मैंने भी कुछ कहने की जुर्रत की है जो आप सभी के सामने प्यार और आर्शीवाद के लिए रख रहा है तरही में में एक छुट ये थी की आप रहे / रहें किसी पे भी ग़ज़ल कह सकते थे . गूरू जी के मेहनत के आगे नतमस्तक हूँ उनकी तबियत ख़राब है और सारी दुआएं उनके लिए जल्दी ठीक हो जायें ....तो लीजिये हाज़िर है ये मुलायम सी ग़ज़ल ... आहिस्ते पढ़ें यही गुजारिश करूँगा ....



दीप जलते रहे झिलमिलाते रहे ।
हम आजाबों से इनको बचाते रहे ॥

वो हमें इस तरह आजमाते रहे
शर्त हमसे लगा, हार जाते रहे

उंगलियाँ इसलिए खुबसूरत हुई
प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे

मिल गया है उन्हें पैर में घाव लो
फूल कदमों तले जो दबाते रहे

हम बहुत दूर तक लो कदम से कदम
फासले दुश्मनी के मिटाते रहे

मखमली बिस्तरें देख घबरा गए
रोड पर जो दरी को बिछाते रहे

खिंच दूँ और चादर तो फट जायेगी
पेट पैरों में अब तक छुपाते रहे

अर्श'चिठ्ठी नही देता है डाकिया
टकटकी द्वार पर हम लगाते रहे

प्रकाश'अर्श'
१७/१०/०९

48 comments:

  1. arsh bahi aapke blog main to kai baar aaonga doosri post ke post hone tak.
    To ghazal ki alochna fir kabhi pehle to is fotu ki taarif kar doon....
    Kahan se le aaiye itna bejod chitr !!
    Adbhoot, Sundar....
    Aur aapki post main to ye chaar chand sa laga raha hai !!

    :)

    Diwali ki hardik shubhkamnaiyen.
    -John !!

    ReplyDelete
  2. वहाँ भी पढ़ा...वाह वाह करते रह गये और यहाँ भी वही...बहुत उम्दा!!

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    सादर

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  3. वो हमें इस तरह आजमाते रहे,
    शर्त हमसे लगा, हार जाते रहे...
    उँगलियाँ इस लिए खूबसूरत हुई,
    प्यार का नाम लिखते मिटते रहे...
    बेहतरीन... दीपावली की शुभकामनाएं..
    शुरुआत में झील milate रहे, typing error है शायद...

    ReplyDelete
  4. behatareen/lajawaab.......arsh ........kya kahun bas bahut achcha laga.

    diwali ki mangalkaamnayen.

    ReplyDelete
  5. अत्यंत सुन्दर लगा भाई
    आपको दीपावली कीशुभकामानाये

    ReplyDelete
  6. प्रवाहमान भाषा और विनोदपूर्ण शैली के साथ ही प्रतीक और यथार्थ के सोने में सुगंध वाले योग के कारण यह रचना काफी आकर्षित करती है।

    ReplyDelete
  7. आप को दिपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. दीप की स्वर्णिम आभा
    आपके भाग्य की और कर्म
    की द्विआभा.....
    युग की सफ़लता की
    त्रिवेणी
    आपके जीवन से आरम्भ हो
    मंगल कामना के साथ

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया है अर्श साहब.

    "उंगलियाँ इसलिए खूबसूरत हुयीं
    प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे"

    क्या बात है. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  11. bahut hi badhiya...
    "खिंच दूँ और चादर तो फट जायेगी
    पेट पैरों में अब तक छुपाते रहे ।"

    happy diwali... :)

    ReplyDelete
  12. कोमल अहसास लिए बहुत प्यारी सी ग़ज़ल...
    प्यार का नाम लिखते रहे.मिटाते रहे..शेर ख़ास लगा.

    आपके गुरु जी जल्द स्वस्थ हो जाएँ.उनके लिए शुभकामनायें हैं.

    ReplyDelete
  13. अर्श जी !
    सबसे पहले दीपावली की मांगलिक कामनाएँ और आपकी शुभेच्छा के लिए हार्दिक धन्यवाद ! नवल दीपमालिका आपके जीवन में उजास भर दे ! नर्म , मुलायम सी ग़ज़ल बहुत उम्दा है ! मतला तो बहुत ही सुन्दर बन पड़ा है पर लगता है typing करते समय ' झिल ' की जगह ' झील ' टाइप हो गया है ( झिलमिलाते की जगह झीलमिलाते ) ! शुरू के तीन अशआर बेहद खूबसूरत हैं , पूरी ग़ज़ल ही निहायत अच्छी है !

    ReplyDelete
  14. अर्श ने फिर से एक कोहिनूर तराशा . ऐसा यह पढ़ कर लगा

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब अर्श भाई ........ आपकी मुलायम सी ग़ज़ल सच में मलमल की तरह नाजुक है .......... gahre शेर ...........
    ये दीपावली आपके जीवन में नयी नयी खुशियाँ ले कर आये .........
    बहुत बहुत मंगल कामनाएं .........

    ReplyDelete
  16. दीप की ज्योति सा ओज आपके जीवन में बना रहे इस कामना के साथ दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। आपकी बुद्धि में गणेश की छाया,घर में लक्ष्मी की माया और कलम में सरस्वती का वास रहे।
    *Happy Deepavali*

    ReplyDelete
  17. उंगलियाँ प्यार के हर्फ़ से खूबसूरत हैं....वाह

    ReplyDelete
  18. उंगलियाँ प्यार के हर्फ़ से खूबसूरत हैं....वाह

    ReplyDelete
  19. अर्श भाई फिर से तारीफ़ करने आ गया हूँ...ये रेशमी एहसास वाली ग़ज़ल चाहे जितनी बार पढो कम लगती है...बेहतरीन ग़ज़ल...
    नीरज

    ReplyDelete
  20. सबसे पहले तो दीपोत्सव की कोटि-कोटि शुभकामनाएं स्वीकारें. ग़ज़ल अच्छी हैं लेकिन माफ़ करना मुझे लगता है कि तरह कमज़ोर होने के कारण ट्रीटमैंट में नयापन नहीं आ पाया है. अर्श का अपना ट्रीटमैंट. हां उंगलियां वाले शेर का जावाब नहीं उसके लिये ढेरों बधाइयां

    ReplyDelete
  21. खींच दू ओर चादर फट जायेगी .....ये वाला शेर पूरी गजल का सबसे अच्छा शेर है.....

    ReplyDelete
  22. खींच दूँ चादर तो फट जायेगी
    पेट पैरों मे अब तक छुपाते रहे
    और्
    उंगलियाँ इसलिए खूबसूरत हुयीं
    प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे
    दोनो नये अंदाज़ मे लाजवाब शेर
    अर्श चिट्ठी नहीं देता है डाकिया
    टकटकी द्ुआर पर हम लगाते रहे
    अरे किसी को चिठी लिखोगे तभी तो तुम्हें भी आयेगी न ऐसे डाकिया कहाँ से चिट्ठी लायेगा? वैसे शेर बहुत खूबसूरत हैं । बधाई। और ढेर सारे आशीर्वाद जल्दी से तुम्हारी चिठी आये

    ReplyDelete
  23. ये तो चीटिंग है भाई... पहले गुरु जी के आश्रम में अपनी प्रशंसा करवाओ... फिर अपने घर बुला के...! ऐसे थोड़े ना होता है...!

    तुम ना हो गये करीना कपूर हो गये प्यारे...! " लक्स है मेरी खुबसूरती का राज" :) कह कह के ऐड कर कर रहे हो अॡनी खूबसूरत उँगलियों की और हमसे मिले थे तो वो उँगलियाँ कहाँ रख आये थे ?? वहाँ तो डिप्स मारी हुई उँगलियाँ दिख रही थीं....!

    और टकटकी द्वार पर नही फोन के स्क्रीन पर लगया करो, अब चिट्ठियाँ नही आतीं एसएमएस आते हैं। तुम उधर द्वर पर टकटकी लगाये रहते हो उधर एसएमएस ब्लिंक कर कर के चला जाता है।

    हा हा हा...! वैसे गज़ल अच्छी थी but this comment was just for a change...!

    ReplyDelete
  24. उँगलियों की इस खूबसूरती से हम भी इत्तिफाक रखते हैं...प्यार वाकई हर चीज़ को छूता है और जादू कर जाता है. ग़ज़ल का एक एक शेर लाजवाब है. हर एक पर वाह वाह वाह!
    गुलजार की कुछ पसंदीदा लाइनें लिखने से rok नहीं पा रही हूँ
    kabse baitha हुआ हूँ मैं janam, kore kagaj पे लिख के नाम तेरा
    बस तेरा नाम ही मुकम्मल है...इससे बेहतर भी नज़्म क्या होगी.

    ReplyDelete
  25. लीजिये हुजूर, हम भी आ गये फिर से दाद देने....पूरी ग़ज़ल फिर से पढ़ने के बाद जो टिप्पणी पढ़ने लगे तो अनुजा की बातों ने तमाम "दाद" और "वाह-वाह" को ठहाकों में परिणत कर दिया।

    तो अबके उफ़्फ़्फ़्फ़ की जगह हा ! हा !! हा !!!

    वैसे संजीव जी का कमेंट हम सब के लिये है शायद जो वो इशारों में क गये हैं।

    ऊंगलियां देखी जायेंगी इस बार गौर से!

    ReplyDelete
  26. दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें.
    यूंही लिखते रहें,
    दिल की गहराई से..

    ReplyDelete
  27. इतनी प्यारी ग़ज़लें क्यों दर्ज कर देते हो अर्श भाई? हा हा।
    बहुत ख़ूब और बहुत बहुत बधाई। उँगलियों वाली बात में ग़ज़ब सार समाया हुआ है। दिल बहुत ख़ुश हुआ पढ़कर।

    ReplyDelete
  28. अर्श जी,
    सही कहा कंचन दीदी ने और कितनी बार बधाई लोगे, वैसे ग़ज़ल जितनी बार तारीफ की जाये कम ही है.
    हर शेर निखार के आया है, ऐसे ही बेहतरीन लिखते रहें.

    ReplyDelete
  29. खूब कहा है।

    ReplyDelete
  30. jin ungliyo ko prem ka naam mitane ka adhikaar mila ho un ungliyo ki kismat bhi kyaa khoob he/ esi ungliya apne aap me ek jeevan he arsh ji. isiliye maahir logo ki daad milti he aapko jo rachna ki saarthakataa sidhdh karti he/
    khneech doo aour to chadar fat jayegi....., lazavab she'r he arsh bhai. aapke sir par guruji kaa haath he aour ham usi vajah se behatreen abhivyaktiyo me naha lete he.

    ReplyDelete
  31. खैर उंगलियां किसका नाम लिखकर मिटारने में सुंदर हुंई ये मिलने पर पूछूंगा । लेकिन इस ग़ज़ल में तुमको समझ में आया होगा कि मैं बार बार जो कहता हूं कम लिखो पर अच्‍छा लिखो वो क्‍यों कहता हूं । कम लिखोगे तभी इतनी अच्‍छी ग़ज़ल लिख पाओगे । तुम्‍हारी पिछली ग़ज़लों के मुकाबले बहुत निखरी हुई है ये ग़ज़ल । बधाई ।

    ReplyDelete
  32. Gustakhi muaaf arh sahab!main gazal ke bare main jyada to nahi janti aur na hi mera koi ustad hai.lekin ye matla agar yun hota-
    Deep jalte rahe jhilmilate rahe
    hum HAWAON SE INKO BACHATE RAHE.
    to shayed jyada jaandar hota.gustakhi ki muafi pahle hi mang chuki hun.badhiya gazal ke liye badhai.

    ReplyDelete
  33. अब समझ आया खूबसूरत अँगुलियों का राज .. क्या खूब लिखा है...

    ReplyDelete
  34. वाह.. बेहतरीन रचना का पुनर्पाठ.... साधुवाद....

    ReplyDelete
  35. मालूम हुआ कि उनकी ही अंगुलियाँ हमसे सुंदर क्यों हुई
    खूबसूरत ग़ज़ल है मित्र शेर सब उम्दा है बाकी आपने जो चुना है वह शेर तो है ही मस्त.

    ReplyDelete
  36. Waah! Aapne nishabd kar diya!"Bikhare Sitare" tatha "simte lamehn" pe aapka swagat hai...iltija bhar ...anytha na len....kewal is jeevanee, (Bikhare sitare) is dard ke safar me rahnumai karen..

    ReplyDelete
  37. bahut sunder gazal

    phool pairon tale jo........... waah

    ungliyan wala sher bhi kamaal raha

    ReplyDelete
  38. उंगलियाँ इसलिए खुबसूरत हुई
    प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे ।

    मिल गया है उन्हें पैर में घाव लो
    फूल कदमों तले जो दबाते रहे ।
    ...Khubsurat gazal..badhai.

    ReplyDelete
  39. gazal to bahut achchi ban padi hai arsh! thoda kaam zyada rahta hai isliye....blogging kam hi ho paati hai

    ReplyDelete
  40. उंगलियाँ इसलिए खुबसूरत हुई
    प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे ।

    bus isi pe der se nigah aur dil rahe baitha hoon...
    aur vashikaran ke dwara ise apna karne ki koshis hai bus !!

    aise sher' to saam daam dand ( ;)) bhed se apne banana chahoonga !!

    ReplyDelete
  41. "अर्श'चिठ्ठी नही देता है डाकिया
    टकटकी द्वार पर हम लगाते रहे ॥"

    "Dil 'e naadan na dhadak...
    E dil e naadan na dhadak,
    Koi khat leke padosi ke ghar aaiya hoga...

    kaun aaiyega yahan ? koi na aaiya hoga !"

    ReplyDelete
  42. 1 la aur 7 vaN sher achchha laga. 4 tha bahut achchha laga.

    ReplyDelete
  43. तरही गजल लिखना वाकई कठिन होता है। आप इस परीक्षा में भी बहुत अच्छे से खरे साबित हुए हैं।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  44. बहुत बढ़िया है अर्श साहब.आप बहुत अच्छा लिखते है

    ReplyDelete
  45. एक लम्बे इन्तजार के बाद अर्श का कदम रखना सुखद लगा .....वर्ना नज्मों की रौनक कहीं खो सी गई थी ....!!

    आपकी ये ग़ज़ल पहले भी पढ़ी थी पर अपना कमेन्ट न पा हैरानी हुई ....

    ऊंगलियाँ इसलिए खूबसूरत हुई
    प्यार का नाम लिखते मिटाते रहे

    सुभानाल्लाह ....ये तो गज़ब का शे'र है ....!!

    ReplyDelete
  46. Are waah dost ...tabiyat mast hogai badane ke bad ..par dukh is bat ka ki bahut der se padha ...,aur ab diwali ki to nahi par NEW YEAR ki badhai bhi swikaren!

    ReplyDelete
  47. Makhmali bistar dekh ghabra gaye
    Road par jo dari ko bichate rahe

    Wah janaab...bahut achha sher hai....ghazal bhi wakai achhi hai...

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...