Monday, June 7, 2010

शुक्रगुज़ार हूँ आप सभी का ...


आज ब्लॉग की तीसरी सालगिरह है और सुबह से इसी उहापोह में हूँ के क्या कहूँ और क्या लिखूं, खैर कुछ समझ तो अभी तक नहीं आया इसलिए बस ये केक आप सभी के हवाले किये जा रहा हूँ ! और इस वादे के साथ के बहुत जल्द ही एक खुबसूरत ग़ज़ल के साथ हाज़िर होने वाला हूँ ! तीसरा साल मनाने की स्थिति में तभी हूँ जहां आप सभी के प्यार और आशीर्वाद के बगैर पहुंचना नामुमकिन ही है ! आप सभी ने जिस तरह से मेरी हौसला आफजाई की है और मुझे प्रेरित किया है बेहतर से बेहतर लिखने के लिए उसका मैं दिल से शुक्र गुज़ार हूँ... और तमाम उम्र ऋणी रहूँगा ! ये केक मेरी गूरू कुल की सबसे लाडली बहन के तरफ से आया है सो इसका भरपूर स्वाद आप सभी भी चखें....
इस ब्लॉग जगत ने बहुत कुछ दिया है मुझे अगर उन सभी चीजों के बारे में लिखने बैठ जाऊं तो दो तिन पोस्ट ऐसे ही लिख डालूँ ...पूजनीय गुरू देव ,आदरणीय द्विजेन्द्र द्विज जी ,श्रधेय प्राण शर्मा जी , श्रधेय महावीर जी ,श्रधेय सर्वत जमाल जी ,श्रधेय मुफलिस जी , मेरे गूरू भाई बहन ,माँ निर्मला , मनु भाई ,दर्पण,सीमा जी ,डाक्टर अनुराग ,और वो तमाम सज्जन और गुणीजन जिन्होंने मुझे आगे बढ़ते रहने में साथ दिया, को दिल से फ़िर से आभार ब्यक्त करता हूँ !क्षमा चाहूँगा जिन साथियों का नाम नहीं लिख पाया ,उम्मीद है वो मेरी बात और भावनावों को समझेंगे !

गुरुवर का तो आभार भी ब्यक्त नहीं कर सकता क्यूंकि आज जो भी हूँ वो उनका दिया हुआ है !

उम्मीद करता हूँ के आप सभी अपना स्नेह और प्यार ऐसे ही मेरे ऊपर बरसते रहेंगे आगे भी !
आप सभी का
अर्श

41 comments:

  1. आपका चिंतन और लेखन प्रतिपल उत्‍कृष्‍ट हो यही कामना है। आपको शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत मुबारकबाद...अनेक शुभकामनाएँ..ऐसे ही रचते रहिये और दिलों में बसते रहिये.

    ReplyDelete
  3. Bahut bahut badhai ho. Kripya apna mobile no. mujhe mail karein.

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  5. जनदुनिया की ओर से आपको बधाई

    ReplyDelete
  6. ब्लांग की तीसरी साल गिरह पर आप को बहुत बहुत बधाई, ओर आप युही लिखते रहे, खुब उन्नति करे

    ReplyDelete
  7. वाह ये भी खूब है हम तो सोचे थे इसी बहाने कोई गजल पढ़ने को मिलेगी
    आप बिना पढाये पतली गली से सरक गये
    खैर
    आपका ब्लॉग दो वर्ष का हो गया
    देखते ही देखते बच्चे बड़े हो जाते हैं :)

    अब आते हैं मुद्दे पर
    ये छोटा सा केक आप यहाँ रख गये हैं और खाने वाले सैकड़ों लोग अब बताईये भला ये कहाँ का न्याय है ?
    अरे रखना ही था तो फुल साईज के ८-१० रखते लोग मन भर के केक ही खाते और दिल खोल कर आपको दुआएं देते :)

    एक बात तो कहना भूल ही गया
    हार्दिक बधाई
    नहीं तो आप भी कहेंगे दुनिया की बात बता डाली बधाई नहीं दी :)

    ReplyDelete
  8. अर्श जी बहुत बहुत बधाई। मेरी शुभकामनाएं स्वीकार करें। आपकी भावनाओं को समझ सकता हूं।

    http://udbhavna.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग की तीसरी सालगिरह पर बधाई और ढेरों शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  10. मुबारकां जी ... तीन साल ... अब तो ब्लॉग जवान हो गया है...
    नयी ग़ज़ल का इंतज़ार है

    ReplyDelete
  11. अर्श भाई,
    सालगिरह बहुत बहुत मुबारक हो.

    केक डाउनलोड कैसे करूँ. राईट क्लिक करता हूँ तो 'save cake as' जैसी कोई option नहीं दिखती. :)


    -राजीव

    ReplyDelete
  12. "अर्श" ब्लॉग की तीसरी सालगिरह पर हार्दिक बधाई........एक शेर तुम्हारा ही है..
    "मै उदास रात की सदा सही, वो हंसी रात की महफ़िल है,
    ये हकीक़त और ब्यान न हो , मै मुसाफिर हूँ, वो मंजिल है"
    और हाँ ये बड़ी "दी" का केक देख कर तो सच में रहा नहीं जा रहा हा हा हा हा .
    बस यूँही "अर्श" से फिर "अर्श" तक तुम्हरी गजलो का सुनहरा सिलसिला जारी रहे....
    शुभकामनाये....

    regards

    ReplyDelete
  13. अर्शजी ,
    ब्लॉग की तीसरी सालगिरह पर बधाई और मुबारकबाद !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    ReplyDelete
  14. भाई प्रकाश अर्श जी
    आपको ब्लाग के तीसरे जन्म दिवस पर हार्दिक बधाई
    .
    आपकी ग़ज़ल का इंतज़ार रहेगा.

    ReplyDelete
  15. तीन साल...??? अरे तब मैं क्यों तुम्हे जूनियर समझती हूँ। बल्कि तुम तो ५ दिन सीनियर ही हो मुझसे।

    तुम्हारे ये तीन साल, तीस और तीन सौ सृजनात्मक वर्षों में तब्दील हों ये मेरी शुभ कामना।

    @वीनस केक इतनी जल्दी में मँगाया गया था कि इससे बड़ा बेक ही नही हो सकता था। .... हाँ दो बड़े बड़े केक और भेजे थे मैने पर वो मैरिज केक कह के रिजेक्ट कर दिये गये :)

    ReplyDelete
  16. बधाई तीन पग चलने की . ऎसे कई पग सफ़र मे रखने है . चरैवेती चरैवेती

    ReplyDelete
  17. सालगिरह मुबारक, एक दिन बाद. इस में मेरा कोई दोष नहीं. लोग दिन में ३ बार मिलें और न बताएं तो किया क्या जा सकता है. फिलहाल, आप के हमराह मैं भी खुश हूँ. इस साल का आरम्भ एक नई गजल या कविता अथवा किसी लेख से होना चाहिए था, केक की फोटो दिखा दी और आल इज वेल.
    आप मेरे से बहुत सीनियर हो, इस बडप्पन को बरकरार रखना.

    ReplyDelete
  18. Bahdayi ho ji 3 saal ho gaye blog banaye
    .........

    ReplyDelete
  19. sir..
    aapka jadoo hamesha yun hi barkarar rahe,isi kamna ke saath bahut bahut badhai..! :)

    ReplyDelete
  20. ब्लॉग का सुहाना सफर सदा यूँ ही चलता रहे...

    ReplyDelete
  21. arsh ji aapko teesarii saalgirah khoob khoob mubaarak ho ..

    ReplyDelete
  22. अर्श भाई दौड़ता भागता हांफता देर से पहुंचा हूँ क्यूँ की आपके ब्लॉग की बस मिस हो गयी थी...पर पहुँच तो गया...तीसरे वर्ष की बहुत बहुत बधाई...आपकी ग़ज़लों और आवाज़ के बहुत बड़े प्रशंशक हैं हम...आपसे ऐसी ही ग़ज़लें पढने को मिलती रहें ये ही कामना है...
    नीरज

    ReplyDelete
  23. आप सभी गुणीजनों को मेरा सादर प्रणाम , जिस तरह से आप सभी ने मेरा हौसला बढ़ाया है इन विगत वर्ष में उसके लिए ऋणी रहूँगा ! ब्लॉग में गलती से तीसरी साल गिरह लिख दी गयी है जिसे बहन जी की पार की नज़र से दूसरी ही है ! इसे सुधार रहा हूँ ! इस गलती के लिए आप सभी से क्षमा चाहूँगा ...
    नीरज जी और विनय प्रजापति दोनों ही मेरे पुराने प्रशंसकों में हैं मगर मैं दोनों का इनसे jyada बड़ा प्रशंसक रहा हूँ !
    आप सभी का
    सखी और अल्पना जी का साथ भी रहा है इस सफ़र में !
    अर्श

    ReplyDelete
  24. बहुत बहुत मुबारक हो आप को अपने ब्लोग की सालगिरह.

    ReplyDelete
  25. बधाई, सिरजते रहो यूं ही शब्‍दों से अपनी भावनाओं को

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत बधाई अर्श जी ... आशा है आप ऐसे ही लिखते रहें .. हां . जल्दी जल्दी आया करें ...

    ReplyDelete
  27. Mubarak ho Arsh bhai,
    is nakli cake se kaam nahi chalne waala, tumhe address to maloom hi hai bhijvao ek asli cake, turant se pehle, nahi to jisne ye nakli cake bhej hai unhi se kaho ki asli bhijva de mujhe.

    Aap khoob tarakki karo, main yahi dua karta hoon aur sabhi ko apne kalam ki jadoogari se rubaroo karvaate raho.

    ReplyDelete
  28. हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete
  29. AAPKE BLOG NE AAJTAK JO KUCHH DIYA HAI VAH
    PRASHANSAA KE YOGYA HAI.TEESREE SAAL GIRAH
    PAR MEREE HARDIK BADHAAEE AUR SHUBH KAMNAA

    ReplyDelete
  30. ब्लॉग की तीसरी साल पर दिली मुबारकबाद क़ुबूल कीजिए.
    'अर्श' का लब-ओ-लहजा अलग अपना रंग-ओ-आहंग रखता है. यह अंदाज़ शेअ'र गोई इनकी फ़ितरत का एक हिस्सा मालूम होता है. अल्लाह* करे ज़ोर क़दम और ज़्यादा !
    (*ईश्वर अल्लाह तेरे नाम'.)

    ReplyDelete
  31. Aapke blof nki umra 3 baras sahi per aapki shayri 300 baras jiye yahi shubhkamna hai.

    ReplyDelete
  32. 3 baras our ye mukam !kabile tatif .
    aane wale tmam tmam salo ke liye bhut bhut shubhkamnaye .

    ReplyDelete
  33. ांरे मुझे पता ही नही लगा इस पोस्ट का। बहुत बहुत बधाई मगर मुझे केक के साथ काजू बर्फी भी खानी है। तुम्हारा ब्लाग दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की करे इस के लिये शुभकामनायें और आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  34. Hey Arsh ...der se hee sahii...badhayiyan !!

    ReplyDelete
  35. दूसरी-तीसरी ...
    जो भी है..बहुत बहुत मुबारक हो...
    अपना तो याद भी नहीं कि कब बना था ब्लॉग....मगर तीसरी सालगिरह पढ़कर ये तो जरूर लगा था कि नहीं यार...
    हमसे इतना सीनियर थोड़े ही है...

    :)

    काफी दिन बाद आना हुआ....नया रंग रूप मनमोहक है...आपके ब्लॉग का...

    ReplyDelete
  36. तीन साल हो गये...???? बड़े सीनियर हो तुम तो मियां\

    खैर मुबारक हो बहुत-बहुत...परसों तो मिल ही रहे हैं हम। वैसे तो कायदे से कल ही मिलते :-(

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...