Saturday, June 28, 2008

मेरे मोहब्बत का नतीजा.....

मेरे मोहब्बत का नतीजा इसकदर निकला,
मैं करम करता रहा वो सितमगर निकला॥

दिल में बसाया था जिसको धड़कन की तरह,
मेरी मौत का वजह उसी का खंज़र निकला॥

मैं भी अजीब शक्श हूँ और इतना अजीब हूँ,
ख़ुद को तबाह करके भी उनसे बेहतर निकला॥

सोंचा था एक दिन उनको भी तरस आएगी मगर,
वही सहर,वही सफर,वही हमसफ़र निकला॥

मौत भी आएगी एक दिन इसी इंतजार में,
उम्र से लंबा मेरा वो रहगुज़र निकला॥


प्रकाश "अर्श"
१२/०२/2008

6 comments:

  1. बढिया प्रयास है आपका, धन्यवाद । इस नये हिन्दी ब्लाग का स्वागत है ।
    शुरूआती दिनों में वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें इससे टिप्पयणियों की संख्या‍ प्रभावित होती है
    (लागईन - डेशबोर्ड - लेआउट - सेटिंग - कमेंट - Show word verification for comments? No)
    पढें हिन्दी ब्लाग प्रवेशिका

    ReplyDelete
  2. अच्छा लिख रहे हैं. लिखते रहिये. शुभकामनायें.
    ---
    उल्टा तीर

    ReplyDelete
  3. मैं पढ़ रहा हूँ ।

    ReplyDelete
  4. दिल में बसाया था जिसको धड़कन की तरह,
    मेरी मौत का वजह उसी का खंज़र निकला॥

    "wah wah, wah, so nice poetry"

    Regards

    ReplyDelete
  5. guru likhte bhi ho pataa nahi thaa...hum tou bas gaane waalaa gun jaante they,,,,lage raho

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...