Saturday, April 11, 2009

कमाई के लिए बच्चा जो माँ से दूर हो जाए ...

परम श्रधेय गूरू देव श्री पंकज सुबीर जी के आशीर्वाद से तैयार ये ग़ज़ल कुछ कहने लायक बनी है आप सभी का भी प्यार और आशीर्वाद चाहूँगा...


बहरे-हजज मुसमन सालिम (१२२२*)


हमारे नाम से वो इस तरह मशहूर हो जाए ।
के रिश्ता जो भी जाए घर वो ना-मंजूर हो जाए ॥

हिकारत से यूँ रस्ते में मुझे जालिम ना देखा कर
मुहब्बत इस कदर ना कर कोई मगरूर हो जाए ॥

जली होंगी कई लाशें दफ़न होंगे कई किस्से
संभलना शहर फ़िर कोई ना भागलपूर हो जाए ॥

कोई शिकवा हो तो कह दे इसे ना दिल में रक्खा कर
ज़रा सा जख्म है बढ़कर न ये नासूर हो जाए ॥

जिसे भी देखिये वो बेदिली से देखता है अब
मुहब्बत करने वालों का न ये दस्तूर हो जाए ॥

वो रोती है सुबकती है अकेले घर के कोने में
कमाई के लिए बच्चा जो माँ से दूर हो जाए ॥

है पीना कुफ्र ये जो"अर्श"से कहता रहा कल तक
वही प्याला लबों को दे तो फ़िर मंजूर हो जाए ॥

प्रकाश"अर्श"
११/०४/२००९

40 comments:

  1. शानदार अभिव्यक्ति. बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. wo roti hai subakti hai jo..............man se door ho jaaye. lajawaab sher main mehsoos kar sakta hun is sher ka dard.bahut khoob sabhi sher kabil-e-tareef.dheron badhai.

    ReplyDelete
  3. 'संभलना शहर फि‍र ना कोई भागलपुर हो जाए।'
    वाह।
    वैसे सारे शेर अच्‍छे हैं।

    ReplyDelete
  4. Hey Arsh bhai,
    aapne to kamaal kar diya...

    Matla, jo likhaa hai, uska to javaab nahi...kyaa baat kahii hai...lajavaab...

    and I agree with swapn...
    Second last sher is much far beyond to be appreciated in words.

    ReplyDelete
  5. arsh ji ,
    main kya kahun ..

    wo roti hai subakti hai jo ..ne aankho ko nam kar diya bhai mere..

    main aur kya likhun ... mera salaam hai aapke is sher ko ,aur aapki lekhni ko ....

    meri dua hai khuda se , aap aur likhe , behatar likhe ...


    aapko dil se badhai ..

    regards
    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. आपकी ग़ज़ल में बहुत गहराई है..

    ReplyDelete
  7. " bhut hi shandra prstuti.."

    Regards

    ReplyDelete
  8. गहरी रचना है अर्श जी...........
    गुरु जी के आशीर्वाद से निखार आ ही जाता है...........
    सुन्दर हैं सब शेर

    ReplyDelete
  9. सारे शेर एक से बढ़ कर एक हैं भाई जान|

    ReplyDelete
  10. shabad nahi hai hai mere pass tippanni ke liye .woh roti hai subkatee hai.....sach kaha hai aapne

    ReplyDelete
  11. क्या बात है अर्श भाई....वाह ! क्या बात है
    जबरदस्त मतला साब एकदम जबरदस्त
    मेरा सलाम
    सब के सब शेर खूब-खूब हैं
    और विशेष कर भागलपूर वाला शेर और मक्‍ता तो आयहायहाय...

    ReplyDelete
  12. वाह वाह क्या गजल कही आपने दिल खुश हो गया

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  13. बड़ी बातों का कहना और गहरा प्रभाव, ग़ज़ल का रस है।

    ReplyDelete
  14. किन शेरों को को अलग से कहूँ कि अच्छे हैं
    ये जो अर्श है ना,....बड़ा ही बढ़िया कहता है !!
    अरे बाबा इसीलिए तो हम सबके दिल में रहता है !!

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया। एक से बढ़ कर एक शेर।

    ReplyDelete
  16. वो रोती है सुबकती है अकेले घर के कोने में,
    कमाई के लिए बच्चा जो माँ से दूर हो जाए।

    वाह वाह अर्ष भाई क्या खूब लिखा है। जब प्यार में भीगी ग़ज़ल से दाल रोटी की खुश्बू आए तो मज़ा ही कुछ और बहुत ही उम्दा ग़ज़ल है।

    ReplyDelete
  17. क्या बात है ! अतिसुन्दर ! ..ज़रा सा जख्म है बढ़कर न ये दस्तूर हो जाए .....!

    ReplyDelete
  18. वो रोती है सुबकती है...'
    बहुत ही उम्दा शेर लगा.
    आखिरी शेर भी काबिले तारीफ़ है.
    ग़ज़ल के सभी शेर बहुत खूबसूरत हैं.

    ReplyDelete
  19. दैनिक हिंदुस्तान अख़बार में ब्लॉग वार्ता के अंतर्गत "डाकिया डाक लाया" ब्लॉग की चर्चा की गई है। रवीश कुमार जी ने इसे बेहद रोचक रूप में प्रस्तुत किया है. इसे सम्बंधित लिंक पर जाकर देखें:- http://dakbabu.blogspot.com/2009/04/blog-post_08.html

    ReplyDelete
  20. मैं शायर तो नही,

    मगर ए शायर , जबसे पढा है, मैने तुझको , मुझको शायरी आ गयी !

    समझ कम है, मगर दो शेर- भागलपुर, और कमाई, अपने आप में अलग संपूर्ण विशय है.

    ReplyDelete
  21. हिकारत से यूँ रस्ते में मुझे जालिम न देखा कर
    मोहब्बत इस कदर न कर कोई मगरूर हो जाये

    अर्श जी...क्या बात है....!!

    जलीं होंगीं कई लाशें दफ़न होंगे कई किस्से
    संभालना शहर फिर न कोई भागलपुर हो जाये

    वाह...वाह....बहुत उम्दा ....!!

    ReplyDelete
  22. खूबसूरत गजल है अर्श भाई,,,,
    इस के अलावा और भी कुछ कह जाती है आपकी गजल,,,
    जो आप ने नहीं कहा होता,,,
    पर आपके मोदिरेशन से जरूर शिकायत है थोडी सी,,,
    पहले कमेंट करो,,,,फिर चेक करने आओ के क्या हमारा कमेंट प्रकाशित होने लायक था भी या नहीं,,,..
    बस कमेंट ऐसा हो के उसी गजल की तरह छापा नजर आ जाए ...

    "चुटकी में,,,,,,,,,,"

    ReplyDelete
  23. श्री पंकज सुबीर जी अगर किसी रचना पर अपनी कलम चला देते है तो उसका निखारना स्वाभाविक ही है. हालांकि मै कभी मिला नहीं हूँ उनसे किन्तु उनकी guruta से parichaya है आपकी तरह उन्हें चाहने वालो के माध्यम से.
    अब आपकी तथा उनकी सुधारित रचना के लिए सिर्फ मै तालिया ही बजा सकता हूँ. बहुत खूब लिखा है. आपके गुरु को नमन करता हूँ. काश मुझे भी मिले होते.

    ReplyDelete
  24. हे मेरे सदैव ऑनलाइन रहने वाले मित्र,
    अब तो मेरी टिपण्णी छाप दो...

    ReplyDelete
  25. वो रोती है सुबकती है अकेले घर के कोने में,
    कमाई के लिए बच्चा जो माँ से दूर हो जाए।
    बेहद रोमांचक लब्ज़।

    ReplyDelete
  26. Arsh bhai ,
    Kya Gazal likhi hai aapne, realy superb...
    Maine Ropam Chppra ki Gajale padhi hai unhone bhi bahut jaldi bahut gahari Gazale likhana sikha hai aur ab aapko dekhata hoo ki kuchh hi time me aapne kamal kar diya...

    Regards

    ReplyDelete
  27. अर्श,
    आपकी रचनाएँ मुझे हमेशाही निशब्द कर देती हैं...औरोंने जो कहा उसके अलावा और क्या कह सकती हूँ?

    ReplyDelete
  28. पहले तो मै आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हू कि आपको मेरी शायरी पसन्द आयी !
    आप का ब्लोग मुझे बहुत अच्छा लगा और आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है !

    ReplyDelete
  29. भाई अर्श...देरी से आने की मुआफी चाहता हूँ...आपकी ग़ज़ल पढ़ कर आनंद आ गया और इस ग़ज़ल का ये शेर:
    वो रोटी है सुबकती है अकेले घर के कोने में
    कमाई के लिए बच्चा जो मां से दूर हो जाए
    लाजवाब ही नहीं बेमिसाल है....आप नहीं जानते आप क्या लिख गए हैं...गुरुदेव पंकज जी ऐसे शेर के लिए कहा करते हैं की ये लिख्खे नहीं जाते मां सरस्वती खुद लिखवाती है...सुभान अल्लाह ....वाह...लिखते रहें.
    नीरज

    ReplyDelete
  30. Arsh ji..... Bahut hi umda ghazal kahi hai aapne.... saare hi aashar bahut ache hai....

    ReplyDelete
  31. Aapki ghazloN mein ab tak ki sabse achchi ghazal. Isi tarah ka likkha kariye...baaki SC ki kahaani tou chaltee hi rahegi...;-)

    ReplyDelete
  32. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना!आप
    का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।
    मैं अपने तीनों ब्लाग पर हर रविवार को
    ग़ज़ल,गीत डालता हूँ,जरूर देखें।मुझे पूरा यकीन
    है कि आप को ये पसंद आयेंगे।

    ReplyDelete
  33. Bhai arsh ji
    Bahut hi sunder ghazal hai.
    koi shikwa ho to kah de ise ne dil men rakkha kar,
    jara sa zakhma hai badkar na ye nasoor ho jaye.
    bahut bahut badhai.

    ReplyDelete
  34. are ye gazal to meri nazar se kese chhip gayee sada ki tarah behtreen badhai

    ReplyDelete
  35. बहुत उम्दा ग़ज़ल है.............दाद कबूल हो

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...