Monday, March 30, 2009

मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ...

परम आदरणीय और मेरे गूरू वर श्री पंकज सुबीर जी के आशीर्वाद से तैयार ये ग़ज़ल आप सभी के प्यार और आशीर्वाद के लिए प्रतीक्षारत ....


हाय वो वक्त किस कदर होगा
मेरा महबूब मेरे घर होगा ।

दिल हमारा है प्रेम का मन्दिर,
हम पे नफ़रत का ना असर होगा ।

घर बनाते है पत्थरों के सब
मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।

उनसे जब सामना होगा मेरा
दिल मेरा आसमान पर होगा ।

दिल को छलनी किया है नज़रों ने
इस पे कब मरहमे नज़र होगा ।

आज फ़िर ज़िन्दगी बुलाती है
आज फ़िर से शुरू सफर होगा ।

उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
अर्श को मौत का ना डर होगा ॥


बहर .... २१२२ १२१२ २२
प्रकाश'अर्श'
३०/०३/२००९

55 comments:

  1. अर्श जी खुशबुओं के घर कि उम्मीद सार्थक हो सुंदर है भिव्यक्ति आपकी

    ReplyDelete
  2. अर्श जी
    एक से बढ़ कर एक शेर लाजवाब, पंकज जी का आशीर्वाद हो तो ग़ज़ल के क्या कहने, चार चाँद लग जाते हैं,
    आज फिर ज़िन्दगी बुलाती है........
    क्या कहना इस शेर में पूरे भाव उतार दिए आपने

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्‍छी रचना की ... बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. आज फिर ज़िन्दगी बुलाती है ..बहुत सुन्दर अच्छी लगी आपकी यह गजल

    ReplyDelete
  5. arsh ji ..ye kamal ho gaya .. kya khoob likha hai yaar .. maza aa gaya .. khuda kare ki aapka ghar jeevan ki har khushbu se aabaad rahe..
    meri dua hai aapke liye .. yun hi likhte rahe .. behatar aur behtar.. march ke mahine me, job pressure ke dauraan , aapki khubsoorat gazal padhkar maza aa gaya huzoor..

    ReplyDelete
  6. bahut khoob vakai ek se ek badh kar sher,

    aaj to zindgi ko hathia le
    ye bhi tera ek hunar hoga

    ReplyDelete
  7. आज फ़िर ज़िन्दगी बुलाती है
    आज फ़िर से शुरू सफर होगा ।

    उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    अर्श को मौत का ना डर होगा ॥
    waah bahut sunder

    ReplyDelete
  8. achchi kavita likhi hai aapne.. likhte rahiye hum aapko padne blog par aate raheinge

    ReplyDelete
  9. कभी न शिकवा न कभी गिला
    बस तेरे तसव्वुर की चाहतमे जिंदगी को चाहने का वादा

    ReplyDelete
  10. घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।

    उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    अर्श को मौत का ना डर होगा -

    'उनके दीदार से ही ज़िन्दगी की लो जलती रही..'
    वाह अर्श जी,बहुत खूब!
    चाहत की इंतिहा!

    सभी शेर कमाल के हैं.

    ReplyDelete
  11. घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।
    --बहुत खूब.. खुशबुओं का घर जल्द ही मुबारक हो!
    बहुत अच्छा ख्याल है.

    उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    अर्श को मौत का ना डर होगा -

    बहुत अच्छे!
    बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल है.

    ReplyDelete
  12. उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    अर्श को मौत का ना डर होगा ॥

    Waah !! Waah !!
    Khoobsoorat gazal....Badhai aapko aur aapke gurudev ko...

    ReplyDelete
  13. घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।


    बहुत खूब...बधाई...

    ReplyDelete
  14. आज फ़िर ज़िन्दगी बुलाती है
    आज फ़िर से शुरू सफर होगा ।
    .........
    bahut hi prabhawshaali rachna

    ReplyDelete
  15. आज फ़िर ज़िन्दगी बुलाती है
    आज फ़िर से शुरू सफर होगा ।

    kya baat hai ...subhanalaah...

    ReplyDelete
  16. खुशबुओं का घर , क्या बात है

    ReplyDelete
  17. उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    अर्श को मौत का ना डर होगा ॥

    बहुत अच्छे...

    ReplyDelete
  18. बहुत ही अच्छे शेरोन से सजी हुई ग़ज़ल है.
    पसंद आई.
    आज फिर जिंदगी बुलाते है
    आज फिर से शुरू सफ़र होगा
    - विजय

    ReplyDelete
  19. बड़ा प्यारा मिस्रा "मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा " अर्श जी...सुभानल्लाह और मक्‍ते ने तो हाय रे~~~~

    बहुत खूब उस्ताद....बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  20. घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।
    इतनी सुन्दर बात तो बस बवाल का प्यारा छोटा भाई अर्श ही कर सकता है, शर्त लगा ले कोई भी है ना अर्श। बहुत ख़ूब और बहुत लाजवाब।

    ReplyDelete
  21. Dua hai ki aapki zindagee, khushboo, rang, aur baharonse bharee pooree ho...behtareen likhte hain
    mere blogpe aake zarranawazeeke liye shukrguzar hun....pohot dinon pehleekee tippaneeka aaj uttar de rahee hun...kshamaprarthi hun...
    Mere netpe zabardast hacking ho gayee thee, aur galatfehmiyonka ek ambar-sa ban gaya tha...mere saath any kayi bloggers ko is karan pareshani uthani padee...

    ReplyDelete
  22. आज फ़िर जिन्दगी बुलाती है.
    आज फ़िर से सफ़र शुरू होगा

    जिन्दगी का इससे बढ़िया आगाज और क्या हो सकता है.

    सुन्दर बव पूर्ण ग़ज़ल प्रस्तुति पर हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  23. घर बनाते है पत्थरों के सब मेरा घर खुशबुओ का घर होगा........
    ये शेर लाजवाब है .......ऐसे घर की कल्पना जो खुशबुओ से सजा हो रोमाचक है ......

    Regards

    ReplyDelete
  24. आपकी ग़ज़ल बहुत खूबसूरत है ....बहुत अच्छी लगी मुझे

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  25. wah wah bahut khoob arsh ji.........

    ReplyDelete
  26. बहुत पसंद आयी आपकी यह रचना!

    ReplyDelete
  27. घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा

    arsh ji jab bhi apki koi ghazal padhta hoon (jo ki na kewal vyakaran ke hisab sae suddh hoti hai balkin bhav paksh bhi sabal hota hai) to mujhe apne likhe pe fir vichar karne ka man hota hai.

    Ashchrya hota hai ki ap jaise lekhak ko meri ghazal kaise pasand aa jati hai.

    Apki taarif bhi agar karoon to wo chota muh badi naat lagti hai...

    ReplyDelete
  28. kya baat kahi hai bhaiya....

    "मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।"

    wah...wah...wah...wah... :))

    ReplyDelete
  29. वाह 'अर्श' जी
    बहरे-ख़फ़ीफ़ में बड़ी प्यारी गज़ल लिखी है।
    आज फिर ज़िन्दगी बुलाती है
    आज फिर से शुरू सफ़र होगा
    उनसे नज़रें मिलाये बैठा है
    'अर्श' को मौत का न डर होगा
    दोनों ही ख़ूबसूरत अशा'र हैं।

    ReplyDelete
  30. महावीर जी ने शेरों की प्रशंसा कर दी इसका अर्थ है कि ग़ज़ल ओके टेस्‍टेड हो गई है तथा इसे आइ एस ओ 9001-2000 प्रमाण पत्र मिल गया है । ये जो तुमने ब्‍लाग पर रंगों की बारिश लगा रखी है उसे हटा दो उसके कारण तुम्‍हारा ब्‍लाग खुल नहीं रहा है और बार बार एरर दे कर बंद हो जाता है एक्‍सप्‍लोरर ।

    ReplyDelete
  31. दिल हमारा है प्रेम का मन्दिर,
    हम पे नफ़रत का ना असर होगा ।

    गुरुदेव तो पारस हैं बंधू जिनके संपर्क में आने मात्र से आप क्या से क्या हो जाते हैं. बहुत उम्दा ग़ज़ल कही है...बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  32. aaj phir zindagi bulati hai
    aaj phir se shuru safar hoga

    bahut khoob

    ReplyDelete
  33. दिल हमारा है प्रेम का मंदिर
    इस पर न नफरतों का असर होगा ......
    बहुत खूब बहुत सुन्दर लिखा है आपने ....अर्श जी आजकल व्यस्तताएं बढती जा रही है उस पर लोकसभा के चुनाव भी करवाने है ..बस इसके सिवा कहाँ जाते ....क्या आप कुरुक्षेत्र आ रहे हो ? बहुत अच्छा लगेगा अगर आप आ रहे है तो मै तो आप सब को कुरुक्षेत्र ही मिलूँगा .
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  34. अर्श भाई आपकी गजल के पहला दूसरा और छठा शेर पसंद आया
    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  35. अर्श भाई, कमाल का लिखा है!! मजा आ गया। सभी शेर लाजवाब हैं।

    ReplyDelete
  36. आज फिर जिन्दगी बुलाती है....


    -पूरे जोश में है गज़ल..आनन्द आ गया. बेहतरीन. लिखते रहें.

    ReplyDelete
  37. सदैव की तरह बेहतर कहा है आपने बधाई.....

    ReplyDelete
  38. soch rahen hain....ham bhi aa jaayen aapke ghar men....aa jaayen naa.....??

    ReplyDelete
  39. bahut achchi ghazal hai...kuch sher khaas pasand aaye.

    ReplyDelete
  40. आज फिर जिंदगी बुलाती है
    आज फिर से शुरू सफ़र होगा!

    और खुशबुओं का घर!

    उम्मीद झाँक रही है इन पंक्तियों से, लेकिन पता नहीं क्यूँ उदास सी उम्मीद जिसके पूरा होने की उम्मीद न सी है|

    ReplyDelete
  41. 'दिल हमारा है प्रेम का मन्दिर,
    हम पे नफ़रत का ना असर होगा'

    ' घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा ।'

    'आज फ़िर ज़िन्दगी बुलाती है
    आज फ़िर से शुरू सफर होगा ।'

    - ऐसी आशावादी पंक्तियाँ दिल में उछाह पैदा करती हैं.

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर रचना है।बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  43. आप सभी पाठकों का मैं दिल से शुक्रिया करता हूँ जो इस नाचीज के लिए मसरूफियत के बावजूद समय निकाला और अपना प्यार और आशीर्वाद बख्शा ...विशेष रूप से गुरु देव को और श्रेष्ठ श्री महावीर जी को तथा उन तमाम साहित्य के दखल्कारोन का आभार और शुक्रिया...

    अर्श

    ReplyDelete
  44. बेहतरीन गजल, दि‍ल खुश हो गया।

    ReplyDelete
  45. पूरी गजल प्रसंशनीय है लेकिन ये शेर: " दिल हमारा है प्रेम ......." अत्यंत प्रभावशाली लगा।

    ReplyDelete
  46. बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  47. इंतज़ार में हैं भाई अर्श।

    ReplyDelete
  48. अर्श जी सभी शे'र एक से बढ़ के एक हैं...किसकी तारीफ करूँ और किसकी न करूँ......?

    हाय वो वक्त किस कदर होगा
    मेरा महबूब मेरे घर होगा ।

    वाह...वाह...!!

    दिल हमारा है प्रेम का मन्दिर,
    हम पे नफ़रत का ना असर होगा ।

    बल्ले...बल्ले...!!

    घर बनाते है पत्थरों के सब
    मेरा घर खुश्बुओं का घर होगा

    और ये तो सुभानाल्लाह ....!!

    ReplyDelete
  49. arsh ji apki chutki meri chutki se Tez kaise?

    hahahaha

    :)

    ...aaj ki ghazal blog main just apke comment baad mere comment padhein !!

    ReplyDelete
  50. Landed on your blog by chance, lovely creations. BTW what is the meaning of "Arsh"

    ReplyDelete
  51. शानदार गजल,,,,
    बे-तखल्लुस ने कुछ कहा गर तो,
    एक हंगामा तेरे घर होगा,

    आपके सभी गुरुओं के आशीर्वाद से सुंदर गजल बन पडी है,,,,,

    ReplyDelete
  52. bhaai jaan,
    ye modirate ki jaroorat aapko kyoon pad gai,,,,,
    aap to likhte hi shaandaar hain,,,

    ReplyDelete
  53. आज फिर ज़िन्दगी बुलाती है आज फिर शुरु सफर होगा बहुत बडिय आप्के जीवन का सफर आप्के लिये खुशियां ले कर आये

    ReplyDelete
  54. आप ने मेरी तारीफ़ की उसके लिये बहुत बहुत शुक्रिया !
    आप तो बहुत ही सुन्दर लिखते है और मेरा ये मान्ना है कि आप बडे ही उन्दा लेखक है !

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...