Sunday, March 22, 2009

तू कातिल है मगर मुझ सा लगे है ...

परम आदरणीय श्री प्राण शर्मा जी के आशीर्वाद से तैयार ये ग़ज़ल आप सभी के प्यार और आशीर्वाद के लिए....


तेरा चेहरा मुझे अच्छा लगे है ।
तू कातिल है मगर मुझ सा लगे है ॥

मेरी किस्मत कहाँ मुझको मिले तू
तुझे पा लू मुझे किस्सा लगे है ॥

तुम्हारी बात में ऐसा असर है
ये मिट के भी मुझे पुख्ता लगे है ॥

मेरी किस्मत में चलना ही है यारो
मेरी मंजिल मुझे रस्ता लगे है ॥

तुम उससे पूछते हो दोस्तो क्या
कि वो हर बात में बच्चा लगे है ॥

भुला पाउँगा इसको'अर्श' कैसे
तुम्हारा प्यार नित सच्चा लगे है ॥

बहर १२२२ १२२२ १२२
प्रकाश'अर्श'
२२/०३/२००९

35 comments:

  1. तू क़ातिल है, मगर मुझसा लगे है ।
    बहुत उम्दा कहा अर्श भाई ! प्राण जी का भी आभार इस सुन्दर ग़ज़ल के लिए।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  3. अर्श,
    आपने बहुत ही अच्छी कहन की गजल कही है
    ख़ास कर मतला
    प्राण जी से आपकी गजल के बारे में कुछ सवाल पूछना चाहता था मगर उनके ब्लॉग का लिंक नहीं मिल रहा है इस लिए आपसे गुजारिश है पूछने की
    1.गजल में ४ ,६, ८ शेर होने से कोई दोष होता है या नहीं

    2.आपकी गजल की बहर मैंने १२२२, १२२२, १२२ निकली है क्या ये सही है ?

    3.पाँचवे शेर का पहला शब्द (तुम) है जो एक दीर्ध है क्या बहर के लिए इसको गिरा कर लघु कर सकते हैं ?

    आख़री सवाल आपसे पाँचवे शेर का काफिया आपसे गलत टाइप हुआ है या वो (बछा) ही है
    अगर बछा ही है तो इसका मतलब क्या होता है

    अर्श जी गलत नजरिये से मत लीजियेगा मेरा मन गजल को लेकर बड़ा जिज्ञासू है और ये तो गुरु जी ने भी कह दिया है की मैं बहुत सवाल पूछता हूँ
    अगर हो सके तो इनका उत्तर मेरे ब्लॉग पर कमेन्ट के रूप में दे दीजियेगा

    आपका वीनस केसरी

    ReplyDelete
  4. वाह आप तो आला शाय्रर साबित हो रहे हैं! बड़ी मेहनत जो की है आपने!

    --
    ज्ञान का अपरमपार भण्डार यही हैं!

    ---
    चाँद, बादल और शाम
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  5. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति है !!!!!!!

    ReplyDelete
  6. "too kaatil hai magar mujhsa lage hai." Bahut sundar rachna. khoob rahi. abhar.

    ReplyDelete
  7. न जाने क्यूँ तू मुझे अपना लगे है
    तेरी लिखी ग़ज़ल बहुत खूब लगे है

    ReplyDelete
  8. तू क़ातिल है, मगर मुझसा लगे है
    " खुबसूरत ग़ज़ल.."

    Regards

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर लगा हर शेर .बढ़िया लिखी है आपने गजल यह विशेष रूप से पसंद आया

    मेरी किस्मत कहाँ मुझको मिले तू
    तुझे पा लूँ मुझे किस्सा लगे हैं

    ReplyDelete
  10. तुझे पा लू मुझे किस्सा लगे है ॥
    मेरी किस्मत कहाँ मुझको मिले तू

    bahut khoob...!

    ReplyDelete
  11. bahut khoobsurat arsh kamaal ka likha hai, har sher lajawaab hai. bahut mubarak.

    ReplyDelete
  12. वीनस जी,
    आपके पहले सवाल का जवाब ये है के आप ग़ज़ल में ऐसे तो कई शे'र रख सकते है मगर मूलतः ५-७ रखे जो सही है,
    २. हाँ आपने जो बहर लिखी है वो उसी बहर पे है ग़ज़ल.
    ३. किसी भी व्यंजन के बाद कोइ स्वर आये तो दोनों अक्षरों की संधि हो jaatee है .
    जैसी --तुम उसका ,तुम अपने ,घर अपना आदि .
    यूँ घर अपना में २२२ मात्राएँ हैं लेकिन ज़रुरत
    पड़ने पर १२२ मात्राएँ भी बना सकते हैं .

    ४. जहाँ तक बछा का सवाल है तो वो टाइपिंग में गलती हो गई थी...

    आपने जो प्रश्न किया वो मुझे अच्छा लगा...

    अर्श

    ReplyDelete
  13. वाह वाह साहब.....
    एक से बढ़ कर एक शेर ....
    हर शेर तराशा हुवा, प्राण जी ने इसमें जीवन फूंक दिया है

    ReplyDelete
  14. अर्श जी
    ग़ज़ल बहुत पसंद आई। साथ में प्राण जी जैसे गुरू का प्रसाद हो तो
    कहने को कुछ रहता ही नहीं। आपने वीनस जी के उत्तर बहुत सुंदर
    ढंग से दिए हैं जिससे बड़ी ख़ुशी हुई।
    रवायती तौर पर ग़ज़ल में ५,७, ९, ११ ...... आदि २५ शे'र तक लिखे जाते थे। मैंने पढ़ी तो नहीं है लेकिन सुना है कि १०० अशा'र तक देखे गए हैं। अब इन उसूलों का कोई वक़ार नहीं है। हां, फिर भी कम से कम ५ अशा'र की उम्मीद की जाती है।
    पांचवा शे'र 'लयात्मक संधि' का अच्छा शे'र है। उर्दू में अक्सर
    'अलिफ़ वस्ल' इस्तेमाल होता था लेकिन हिंदी में ग़ज़ल लिखने के कारण व्यंजन के बाद कोई भी स्वर आजाए तो लयात्मक संधि हो जाती है।
    बधाई।
    महावीर

    ReplyDelete
  15. bahut hi achha....
    "मेरी किस्मत में चलना ही है यारो
    मेरी मंजिल मुझे रस्ता लगे है ॥"

    ReplyDelete
  16. सभी शेर अच्छे लगे.
    ख़ास कर--'मेरी मंजिल मुझे रास्ता लगे है.'
    एक न ख़तम होने वाली बेबसी की सफल अभिव्यक्ति एक पंक्ति में है.

    ReplyDelete
  17. arsh bhai ,

    itni acchi gazal ke liye deron badhai ..saare sher shaandar hai , lekin meri manzil mujhe rasta lage hai ... is the best .. it shows the zeal of person to get his dream ,at any cost.

    bahut acche sir ji
    badhai ho..

    ReplyDelete
  18. अर्श साहब, क्या गजब लिखा है! मजा आ गया।

    ReplyDelete
  19. मजा आया अर्श जी,
    एक बात और जो शेर आप हमारे ब्लॉग पर चिपका कर अआते है वो भी लाजवाब होता है,,

    मेरे ख्याल से उच्चारण करते वक्त,,,,तुम उससे पूछते हो,,,,के बजाय
    तुम्मुसे करके पढा जाता है,,,,
    अतः ये एकदम सही है,,,,बाकी मुझे गिनती का नहीं,, उच्छारण के पता लगता है,,,
    बधाई,,,

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर अभिव्यक्तियाँ...लाजवाब !!
    __________________________________
    गणेश शंकर ‘विद्यार्थी‘ की पुण्य तिथि पर मेरा आलेख ''शब्द सृजन की ओर'' पर पढें - गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’ का अद्भुत ‘प्रताप’ , और अपनी राय से अवगत कराएँ !!

    ReplyDelete
  21. तुम उससे पूछते हो दोस्तो क्या
    कि वो हर बात में बच्चा लगे है ॥

    bahut khoob.....aapka chehra bhi behad masoom hai vaise.

    ReplyDelete
  22. क्या खूब अर्श भाई.....जी खोल कर दाद दे रहा हूँ
    एकदम चुस्त और क्यों न हो जब खुद प्राण साब ने देखा है तो

    ReplyDelete
  23. tumhari baat me aisa asar hai ki mit ke bhi mujhe sacha lage bahut hi sunder nazam hai apki kalam me dam hai khoob likhen badhai

    ReplyDelete
  24. bahut khoob!!! bahut aacha likha haa

    ReplyDelete
  25. Wah arsh ji waise to poori ghazal hi acchi hai par ye line dil ko chu gayi:

    मेरी किस्मत में चलना ही है यारो
    मेरी मंजिल मुझे रस्ता लगे है ॥
    ek meri taraf se (behar pe dhyaan mat dijiyega please abhi naya naya hoon):

    meri wo zindagi jike batana,
    kaha jo mera tujhe jhootha lage hai.

    (behar main likhne ka prayas waise poora hai...)

    ReplyDelete
  26. बहुत ही बेहतरीन कहा है आपने.... वाह भाई वाह... जियो..

    ReplyDelete
  27. सुंदर सोच और लिख रहे हैं अर्श भाई...ख़ुदा करे कि फ़र्श पर कभी न आएं...बस ज़मीन और कुदरत से जुड़े रहें...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्छी ग़ज़ल ...मान को छु गई .
    सच्चे प्यार के होसले ऐसे ही होते है ....बस उससे चलना ही तो है ....सामने वाला अपना है या वेगाना कुछ खबर नहीं होती बस अपना पता होता है की हम उनके है बहुत अच्छे !!!

    gargi
    feelings44ever.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. तेरा चेहरा मुझे अच्छा लगे है
    तू क़ातिल है मगर मुझ-सा लगे है

    वाह ! वाह !!
    मतला पढ़ते ही यही लफ्ज़ निकले जुबां से ...
    ख्यालो-लफ्ज़ की खूबसूरती से भरपूर ग़ज़ल .....
    और उस पर 'मीर' का लहजा ....
    बहुत ही कामयाब कोशिश है
    चौथे शेर में लफ्ज़ 'यारो'
    लहजे की खूबसूरती को कम करता है....
    ये मेरी ज़ाती राए है बुरा मत मनायियेगा .

    एक बहुत अच्छी ग़ज़ल पर मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं .
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  30. तेरा चेहरा मुझे अच्छा लगे है
    तू कातिल है मगर मुझ सा लगे है

    वाह जी वाह ...बहोत खूब...!!

    अर्श जी,

    तेरी बात में ऐसा असर है
    जिस्म चीर के सीधे दिल में लगे है ....!!

    ReplyDelete
  31. दिल को घायल करते है जो अपने से लगते है ,
    दिलको छुनेकी कोशिश करते है तभी वो अपने लगते है ....
    लोग तो नजर करते नहीं कभी घायल पर कभी ,
    वो ही तो अपने है जो खून से नाता रखते है ...

    ReplyDelete
  32. woh kaatil hai magar mujhsa lage....boht hi achha likha....chere mehai ayena ke ayene me hai chehra..maloom nahi kon kisse dekh raha hai...

    ReplyDelete
  33. arsh kafii achchha aur original likhate hain. tazagi bhare ehsason ko masus karaa dete hain

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...