Friday, May 1, 2009

वो कातिल अदा उफ़ ...

लगातार बड़ी बहर पे लिखने के बाद एक छोटी बहर की ग़ज़ल आप सभी के सामने लेकर आया हूँ आर्शीवाद गूरू देव का है, आप सभी का भी स्नेह और आर्शीवाद चाहूँगा ....


बहर .... १२२ १२२
फ़ऊलुन फ़ऊलुन


वो कातिल अदा उफ़
वो हुस्न-ऐ शबा उफ़ ॥

हैं दीवाने हम पर
हां तेरी वफ़ा उफ़ ॥

है दिल हारने में
लो नुक्सा नफ़ा उफ़ ॥

वो आदाब में भी
नजाकत है क्या उफ़ ॥

लगी भीड़ कैसी
है क्या माजरा उफ़ ॥

वो जां लेके बोले
तुम्हे क्या हुआ उफ़ ॥

चले उसको छूकर
ये आबो हवा उफ़ ॥

दबे लब से कहना
वो है'अर्श'का उफ़ ॥

प्रकाश"अर्श"
०१/०५/२००९

56 comments:

  1. उफ़!! क्या गज़ब लिखा है उफ़!! बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  2. Mind blowing....gr8 to see some nice Ghazalssss from you non stop.....carry on....Ooo Katil add uff....kya bat hay....

    ReplyDelete
  3. gazal katilaana

    karen tareef kya uf.

    arsh ab tum micro yug men pravesh kar gaye ho,theek bhi hai samay ke saath chalna chahiye.

    rachna behad umda. bahut mubarak.

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत पसंद आई आपकी यह गजल ..वाकई उफ़ है यह लफ्ज़ ..सुन्दर

    ReplyDelete
  5. भाई ये तो सचमुच बड़ी
    नज़ाकत भरी ग़ज़ल है.

    आपमें अभिव्यक्ति की
    प्रशंसनीय बेकली साफ़ दिखती है,
    लिखते रहिए...और हर बार
    बेहतर की
    कोशिश जारी रखिये....बधाई.
    ==========================
    डॉ.चन्द्रकुमार जैन

    ReplyDelete
  6. हम तो सोचते रह गये
    आपने लिखा है क्या उफ!!

    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब। वाह। क्या गजल कहा उफ।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  8. इक टीस सी उठ गई,

    क्या तुमने लिखा उफ्फ?

    ReplyDelete
  9. छोटे बहर की ग़ज़ल कहना मुश्किल काम होता है....आप ने लेकिन इसी में खूब ख्याल लिख डाले -
    'वो आदाब में भी क्या नजाकत थी उफ़!!!!!!'
    बहुत खूब !!!

    ReplyDelete
  10. क्या खूब लिख देते हो उफ़
    दाद का हक़दार कौन
    तुम या काबिल गुरु उफ़

    ReplyDelete
  11. GAZAL PASAND AAYEE HAI.QAAFIA AUR RADEEF AAPNE
    KHOOB NIBHAAEE HAI.MEREE BADHAAEE SWEEKAR KAREN.
    AAPKEE TIPPANI WALA SHER VAZAN SE GIR GAYAA HAI.

    ReplyDelete
  12. उफ़, उफ़, उफ़, हाय!
    बहुत ख़ूब...

    ReplyDelete
  13. aapki ghazal boht nazuk si lagee......nzakat se bhari..adao se bharee..

    ReplyDelete
  14. उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़..अर्श भाई उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ !!!
    शायद मेरे शब्द उचित न्याय नहीं कर पायेंगे जो तारीफ़ करने बैठूं आपके इस अनूठे ग़ज़ल की...
    "हैं दीवाने हम पर / हां तेरी वफ़ा उफ़" और "वो जां लेके बोले/तुम्हे क्या हुआ उफ़ ’---इन दो शेरों पे बस सब निछावर

    और मक्‍ते के लिये i salute you..

    आप कुछ पूछना चाह रहे थे हुज़ूर, जैसा कि मेरे ब्लौग पर कहा है आपने....अब पूछ भी लीजिये !!!

    ReplyDelete
  15. अर्श जी सही में
    मजेदार है ये उफ़
    - विजय

    ReplyDelete
  16. छोटी बहर में अच्‍छा प्रयोग है । इसलिये भी क्‍योंकि छोटी बहर में बात को पूरा एक ही शेर में कर देना मुश्किल होता है । मगर ये अच्‍छा है कि आपका हर शेर बात को पूरा कर रहा है ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सही गजल ,,,निकलवा लायें है आपके गुरूजी,,,
    ऊऊऊओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़

    ये उफ तो गौतम जी ही ज्यादा अच्छा कहते हैं,,,,

    मक्ता वाकई लाजवाब बन पडा है,,,
    और वो जान लेके बोले ,,,
    तुम्हे क्या हुआ उफ

    मजा आ गया

    ReplyDelete
  18. वो आदाब में भी
    नजाकत है क्या उफ़ ॥
    ... behad khoobasoorat !!!!

    ReplyDelete
  19. अंदाजे बयां अर्श का
    क्या कहना.. उफ..

    ReplyDelete
  20. चले उसको छूकर ........उफ़

    ReplyDelete
  21. उफनता हुआ गजल:)
    मजेदार:)

    ReplyDelete
  22. kya baat hai arsh bhai ... maine to aaj tak itni choti baher ki gazal nahi padhi [ ho sakta ho ki maine bahut kam gazalen padhi ho ] lekin , maza aa gaya huzoor .. kamaal kar diya hai ..uff ye gazal ..... uff ye mohabbat.... uff ye arsh bhai ...uffff.

    dil se badhai sweekar karen ..

    aapka

    vijay

    ReplyDelete
  23. वाह! वाह! छोटी बहर में लिखना मतलब गागर में सागर भरना। और आपने बखूबी ये काम किया है। गुरूदेव का आशीर्वाद फलीभूत होता दिख रहा है। बहुत बहुत बधाई। पूरी गज़ल जानदार है।

    ReplyDelete
  24. आपकी इस ग़ज़ल में भी क्या नजाकत है उफ़

    ReplyDelete
  25. अंदाज़ पसंद आया |

    ReplyDelete
  26. अर्श भाई पहले तो माफी चाहुगा की गजल कल ही पढ़ ली और कमेन्ट आज कर रहा हूँ
    जिन शेरो ने ख़ास प्रभावित किया वो है

    हैं दीवाने हम पर
    हां तेरी वफ़ा उफ़ ॥

    वो जां लेके बोले
    तुम्हे क्या हुआ उफ़ ॥

    चले उसको छूकर
    ये आबो हवा उफ़ ॥

    दबे लब से कहना
    वो है'अर्श'का उफ़ ॥


    आपका वीनस केसरी

    ReplyDelete
  27. arsh jee, aap kee mehnat ka sila aap ko dheron cmments kee shkl men hasil hai. blog jagat men aap ek haisiyat ke malik hain. aap ne naacheez kee ghazal pe comments diye, shukrguzar hoon. mehnat thodee aur badhayen.

    ReplyDelete
  28. बहुत बढ़िया लिखते हैं आप तो , एक झटके में आपकी कितनी ही रचनाएं पढ़ डाली हैं , अब किस किस पर टिप्पणी दें , उलझन में डाल दिया है |

    ReplyDelete
  29. लिखा अर्श ने यूँ,
    कि दिल कह रहा उफ!

    बहुत सही भाई...! यूँ ही लिखते रहो..!

    ReplyDelete
  30. छोटी बहर में लिखी ग़ज़ल............
    आपने और गुरु जी ने खूबसूरत ख्याल से...........बहुत ही naazuki से chuaa है इस ग़ज़ल को
    uff ..........क्या ग़ज़ल bani है

    ReplyDelete
  31. वो कातिल अदा उफ़
    वो हुश्न-ए-सबा उफ़

    लाजवाब.......!!

    वो जां लेके बोले
    तुम्हें क्या हुआ है उफ़

    उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़ !!

    कमाल कर दिया अर्श जी इस छोटी बहर में भी .......!!

    ReplyDelete
  32. छोटी बहर की इतनी सुन्दर ग़ज़ल....उफ़...
    रचना बहुत अच्छी लगी।कुछ हटकर.....

    आप का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।आप मेरे ब्लाग
    पर आएं,आप को यकीनन अच्छा लगेगा।

    ReplyDelete
  33. वो जां लेके बोले
    तुम्हे क्या हुआ उफ़ ॥

    ufff...!!!
    :)

    ReplyDelete
  34. aapki gazal uf!
    Andaz-e -bayan Uf!

    aapke is wale blog ko first time dekha ! Lajawab hain aapto...bahut kuch seekhne ko milega

    ReplyDelete
  35. ek "uff" shabd ke istemaal se bahut achha prabhaav daala hai aapne...baaki beher ki itni samajh nai mujhe,par flow to ekdum badhiya lagaa :)

    ReplyDelete
  36. कैसे करूं इस गज़ल की तरीफ्
    दो शब्द मे लिख दी ज़िन्दगी उफ
    ये कमाल है तेरी कलम क
    करूं केसे इसकी बंदगी उफ्
    अर्शजी हमेशा कि तरह खूबसूरत गज़ल हैांअप को गज़ल का बाद्शाह कहूं तो गलत ना होगा शुभकामनायें इसी तरह लिखते रहें और अपकी कलम आकाश की बुलन्दियों को छूये आशिर्वाद्

    ReplyDelete
  37. केसे करूं तरीफ तेरी गज़ल की
    दो शब्दों मे लिख दी जिन्दगी उफ
    तेरी कलम की दाद दूँ कि
    करूँ इसकी बंदगी उफ
    हमेशा की तरह लजवाब गज़ल है भगवान करे तुम्हारी कलम इसी तरह चलती रहे और एक दिन आकाश की बुलन्दिओं को छूये शुभकामनायेम्

    ReplyDelete
  38. वो जाँ लेके बोले
    तुम्हे क्या हुआ उफ़
    एक शेर ही काफी था...अपने आपमें पूरी ग़ज़ल ही समझलो...भाई वाह...मजा आ गया...इस शेर के बाद और कुछ भी कहना फिजूल है...
    नीरज

    ReplyDelete
  39. मन को झकझोर डाला
    ये क्या कह दिया उफ़ !

    ReplyDelete
  40. वो आदाब में भी
    नजाकत है क्या उफ़ ॥

    वो जाँ लेके बोले
    तुम्हे क्या हुआ उफ़

    गजब कर दिया
    अर्श है अर्श पर उफ़

    ReplyDelete
  41. गजब कर दिया
    अर्श है अर्श पर उफ़

    ReplyDelete
  42. बहुत बहुत पसंद आई आपकी यह गजल

    ReplyDelete
  43. वाह! बहरे-मुतक़ारिब मुरब्बा की अच्छी गज़ल है। रदीफ़ बहुत अच्छा लगा, एकदम नया और बड़ी ख़ूबसूरती से
    क़ाफ़िये के साथ निभाया है। बधाई।

    ReplyDelete
  44. हुज़ूर ! एक-दम सलीके से
    शानदार और असरदार ग़ज़ल कही है आपने .
    एक-एक शेर में
    गुरूजी का आर्शीवाद खुद बोल रहा है ....
    बधाई .

    असर है ग़ज़ल का
    नशा वो हुआ , उफ़ !

    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  45. choti behar meri niji pasand hai, is behar main likhne ke kitne hi asfal pryas kaer chuka hoon, isliye janta hoon ki kitna mushkil hai, magar apne jo likha hai...

    ...ufffff !! apni pasand ki line udrith karna chahoonga:
    "wo jaan leke bole....
    ...tumehin kya hua uff"

    ReplyDelete
  46. क्या खूब लिखा है, बहुत ही बढ़िया अर्श जी ।

    ReplyDelete
  47. kya baat hai. uff!! kya khoob likhate hain......

    ReplyDelete
  48. ये कैसे लोग हैं ,क्या खूब मुन्सफी की है. हमारे क़त्ल को कहते हैं खुदकुशी की है..
    shaandaar likha hai janaab....

    ReplyDelete
  49. श्री मान, बधाई. क्या खूब लिखते हो . मैंने आपके ब्लॉग का चक्कर काट कर पाया की आपने कितनी सजगता से अपनी बात को शब्दों में पिरो कर कविता बना दी . फर्क इतना है की में अपनी बातो से ब्लॉग के जरिये गुफ्तगू करता हूँ . आपका भी स्वागत है . www.gooftgu.blogspot.com

    ReplyDelete
  50. uff! ye kavita to dil mein ghur kar gayi..

    ReplyDelete
  51. बहरे मुतकारिद मुरब्बा सालिम में बहुत अच्छी ग़ज़ल।
    वो हुस्न-ए-शबा में (हुस्न-ए-) की जगह (हुस्ने) बहर की शर्त को पूरा करता है। मैं भी इस विधा में नया नया हूं उर्दू ठीक ठाक जानता हूं पर हुस्न-ए-शबा ,ख़ासकर शबा का मतलब नहीं समझ पा रहा हूं। कहीं आपने सबा कहते कहते शबा तो नहीं लिख दिया।

    ReplyDelete

आपका प्रोत्साहन प्रेरणास्त्रोत की तरह है,और ये रचना पसंद आई तो खूब बिलेलान होकर दाद दें...... धन्यवाद ...